क्यों होती है थकान, आखिर क्या है इसका इलाज

GoMedii Offer

 

अक्सर लोग रोजमर्रा की ज़िन्दगी में काम करते-करते थकान महसूस करने लगते है। आजकल की लाइफस्टाइल में लोगों को खुद के लिए समय नहीं मिल पा रहा है और जिसकी वजह से व्यस्तता बनी रहती है, लेकिन हमेशा थकान महसूस करने की वजह कुछ गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं। थकान दो तरह की होती है पहली जिसे हम शारीरिक थकान कहते है और दूसरी होती है मानसिक थकान

 

ये दोनों ही थकान होने पर इंसान का कुछ भी काम करने का दिल नहीं करता है। यदि आप ज्यादा तर खुद को थका हुआ महसूस करते हैं और आपके शरीर में ऊर्जा की कमी रहती है तो डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिये। थकान को लेकर विशेषज्ञों का कहना है कि 5 में से एक व्यक्ति हमेशा हल्की थकान महसूस करता है और 10 में से एक लंबे समय तक रहने वाली थकान से परेशान रहता है। इससे उनके निजी जीवन काफी प्रभावित होता है। आपको बता दें की थकान की समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा होती है।

क्या है थकान के लक्षण ?

 

  • शरीर में सुस्ती रहना

 

  • शरीर में उत्साह की कमी

 

  • अनिद्रा महसूस करना

 

  • काम में ध्यान न दे पाना

 

  • निर्णय लेने में कठिनाई महसूस होना

 

  • बहुत ज्यादा सोचना

 

  • रोजमर्रा के काम करने में दिक्कत महसूस होना

 

  • डिप्रेशन महसूस करना

 

थकान होने के कारण ?

 

नींद में कमी :  दरअसल थकान का सबसे बड़ा कारण पूरी नींद न लेना। यदि आप दिनभर तरोताज़ा व एनर्जेटिक बने रहना चाहते है तो अपनी नींद जरूर पूरी करें।  हर उम्र के व्यक्ति के लिए नींद की ज़रूरत भी अलग-अलग होती है, अगर हम बात करें नवजात शिशुओं की तो  उसे 16 घंटे की नींद की ज़रूरत होती है, वहीं टीनएजर्स को 9 घंटे, बड़ों को 7-8 घंटे और बुज़ुर्गों को कम से कम 5 घंटे और ज़्यादा से ज़्यादा 10 घंटे की नींद की ज़रूरत होती है।

 

गलत खान-पान : कई बार लोगो की थकान का कारण असमय या ग़लत खानपान भी होता है। क्यूंकि ज्यादातर लोगो को जब व़क्त मिलता है, वह तब खाना खाते हैं, बल्कि हर रोज़ खाना खाने का सही समय होना चाहिए, दिन की सही शुरुआत के लिए हेल्दी ब्रेकफास्ट बहुत ज़रूरी है। उसके बाद दिन के समय अपना लंच भी सही समय पर करें और शाम के समय हल्का सा खाए और रात को समय से भोजन कर के सो जाए इससे आप अगले दिन थका हुआ महसूस नहीं करेंगे।

 

पानी की कमी : शायद आपको ये नहीं मालूम होगा की थकान का एक कारण शरीर में पानी की कमी भी है जिसे हम डिहाइड्रेशन भी कहते है। यदि हमारे शरीर को सही तरी़के से काम करना है तो उसके लिए हमे एक पर्याप्त मात्रा में पानी की जरूरत होती है, जो लोग फिज़िकल एक्टीविटीज़ ज़्यादा करते हैं, उन्हें अच्छी मात्रा में पानी पीना चाहिए। और ज्यादा से ज्यादा पेय पदार्थ का भी सेवन करना चाहिए।

 

चिड़चिड़ा महसूस करना : किसी भी बात पर चिड़चिड़ा मेहसूस करना या किसी भी बात का चिल्ला कर जवाब देना। जब कोई व्यक्ति ज्यादा काम कर लेता है तो भी चिड़चिड़ा मेहसूस करता है या फिर अपने काम को ढंग से नहीं कर पता तो भी चिड़ा हुआ मेहसूस करता है और थका हुआ मेहसूस करने लगता है।

 

फ़ूड अलेर्जी : कई लोगो को ये पता ही नहीं होता की कौन-सी चीज़ उनके शरीर को नुकसान करेगी या फायदा करेगी। जब हम बाहर का खाना खाते है तो हमारे शरीर को वो सूट नहीं करता, जिसके वजह से हमे फूड एलर्जी हो जाती है। वहीं, थकान का एक कारण फूड एलर्जी भी होती है। फूड एलर्जी में स्किन रैशेज़, पेटदर्द, मितली आना और थकान होना आम बात है।

 

कैसे करें थकान का इलाज ?

 

1 .आपको नियमित रूप से एक्सरसाइज करनी चाहिए। जो आपके शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है और साथ ही आपके शरीर को थकान से भी दूर रखेगी।

2. अपने स्वभाव को थोड़ा सा चेंज करें जैसे आप ध्यान, योगा और डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज करके अपने आपको शांत रखने की कोशिश करें।

3. सुबह समय से उठे, समय पर नाश्ता करें, दिन में समय से लंच करें और रात का भोजन समय से करें।

4.  कभी-भी बेवजह स्ट्रेस न लें और छोटी-छोटी सी समस्याओं को बड़ा न बनाएं, किसी भी चीज के बारे में ज्यादा न सोचे।

5. अपनी नींद जरूर पूरी करें, समय से सोए और समय से उठे।

6. ज्यादा शारीरिक श्रम से बचें क्यूंकी इससे शरीर में तनाव उत्पन्न होता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।