जानिए ‘हार्ट अटैक’ क्यों और कैसे आता है

 

जाने क्या है हार्ट अटैक

 

दिल का दौरा तब होता है जब एक कोरोनरी धमनी (दिल को रक्त पहुंचाने वाली रक्त वाहिका) जो पहले से ही हृदय रोग, पूरी तरह से ब्लॉक, आमतौर पर रक्त के थक्के के कारण सिकुड़ गई हो। यह हमारे हृदय को ऑक्सीजन युक्त रक्त से वंचित करता है, जो मांसपेशियों की कोशिका यानी मांसपेशियों की कोशिकाओं को खत्म कर देता है, जिससे हमारा हृदय शरीर के सभी हिस्सों में पर्याप्त रक्त पंप करने में असमर्थ होता है।

 

हार्ट अटैक के कारण

 

 

निम्नलिखित कारक दिल के दौरे के बढ़ते जोखिम से जुड़े हैं

 

आयु: जब कोई पुरुष 45 वर्ष से ज्यादा का हो, और जब महिला 55 वर्ष से अधिक की हो, तो दिल का दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है।

 

एनजाइना: यह दिल में ऑक्सीजन या रक्त की आपूर्ति की कमी के कारण सीने में दर्द का कारण बनता है।

 

उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर: वे धमनियों में रक्त के थक्कों की संभावना को बढ़ा सकते हैं।

 

डायबिटीज: इससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ सकता है।

 

आहार: उदाहरण के लिए, अधिक मात्रा में संतृप्त वसा का सेवन करने से आपके दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ सकती है।

 

आनुवंशिकी: एक व्यक्ति को दिल के दौरे का एक उच्च जोखिम विरासत में मिल सकता है।

 

उच्च रक्तचाप: उच्च रक्तचाप हृदय पर अनावश्यक तनाव डाल सकता है।

 

मोटापा: बहुत अधिक वजन होने से दिल पर जोर पड़ सकता है।

 

धूम्रपान: धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों को बहुत ज्यादा खतरा होता है।

 

काम का तनाव : जो लोग शिफ्ट कार्यकर्ता हैं या तनावपूर्ण कार्य करते हैं, वे उच्च दिल के दौरे के जोखिम का सामना कर सकते हैं।

 

शारीरिक निष्क्रियता दिल के दौरे के जोखिम का एक कारक है, और जितने अधिक सक्रिय लोग होते हैं, दिल का दौरा पड़ने का खतरा उतना ही कम होता है।

 

 

हार्ट अटैक के लक्षण

 

 

  • सीने में दर्द – छाती में दबाव, दिल के बीच में नरम महसूस होना

 

  • शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द – छाती के हाथों में दर्द महसूस करना (आमतौर पर बाएं हाथ को प्रभावित करना, लेकिन दोनों हाथों में दर्द हो सकता है), जबड़ा, गर्दन, पेट और पीठ।

 

  • बेचैनी या चक्कर आना

 

 

  • मतली उल्टी

 

  • बेचैनी महसूस करना

 

  • पसीने से तरबतर होना

 

  • खांसी का दौरा, भारी सांस लेना।

 

 

हालांकि दिल का दौरा पड़ने पर अक्सर सीने में तेज दर्द होता है, लेकिन कुछ लोगों को केवल हल्के दर्द की शिकायत होती है। कुछ मामलों में छाती में दर्द नहीं होता है, खासकर महिलाओं, बुजुर्गों और मधुमेह वाले लोगों में।

 

 

आप कैसे रखे अपने दिल को स्वास्थ योग द्वारा

 

हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण हिस्से तक हमारी सांस चल रही है, जब तक कि हमारा दिल नहीं धड़क रहा है, लेकिन अगर दिल धड़कना बंद कर देता है या दिल को रक्त प्रवाह में कोई रुकावट आती है, तो आपका जीवन भ्रमित हो सकता है। बदलती जीवनशैली, गलत खान-पान और अस्वास्थ्यकर खाने की आदतों ने हमारे दिल को नुकसान पहुंचाया है, हालांकि कुछ तरीके या साधन हैं जिन्हें अपनाकर आप अपने दिल को बहुत आसानी से बीमार होने से बचा सकते हैं।

 

व्यायाम और योग को अपनाएं

 

हमारे शरीर और सेहत को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम बहुत महत्वपूर्ण है। सप्ताह में छह दिनों के लिए व्यायाम न केवल आपके दिल को स्वस्थ रखने में मदद करता है, बल्कि कई प्रकार के कैंसर के अलावा कई बीमारियों को दूर रखने में मदद करता है। यदि आप व्यायाम नहीं करते हैं तो दिन में कम से कम 30 मिनट के लिए कोई भी व्यायाम करें या आप कम से कम 30 मिनट के लिए पार्क जा सकते हैं। ऐसा करने से आप अतिरिक्त वसा जलाएंगे, लेकिन आपका कोलेस्ट्रॉल स्तर भी नियंत्रित रहेगा।

 

संतुलित और पौष्टिक खाना खाएं

 

अगर आप जल्दी में कुछ भी खाते हैं, तो अपनी आदत को जल्दी छोड़ दें क्योंकि आपको अपने मेटाबॉलिज्म और शारीरिक सक्रियता के अनुसार ही कैलोरी लेनी चाहिए। यदि आप हृदय की समस्याओं से पीड़ित हैं, तो आपको अपने आहार में फल, सलाद, हरी सब्जियाँ, साबुत अनाज शामिल करना चाहिए। आपको अपने दिन के भोजन में तेल और घी की खपत को बहुत कम करना चाहिए।

 

धूम्रपान से बनाएं दूरी

 

आपने देखा होगा कि धूम्रपान करने वाले लोगों को दिल का दौरा अधिक पड़ता है, और डॉक्टर भी धूम्रपान नहीं करने की सलाह देते हैं। क्योंकि धूम्रपान से हृदय रोग का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। दरअसल धूम्रपान करने से धमनियों में रक्त का प्रवाह होता है, और यह शरीर में पाए जाने वाले अच्छे कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है।

 

ब्लड शुगर को नियंत्रित रखें

 

यदि आप डायबिटीज के शिकार हैं तो आपको अपना ब्लड शुगर नियंत्रित रखने की जरूरत होती है। इस बात को ध्यान रखने की बेहद जरूरत है कि शारीरिक गतिविधियों से शरीर में जमा अतिरिक्त फैट को बर्न करने की क्षमता होती है। डायबिटीज से पीड़ित लोगों में हृदय रोग की आशंका अधिक होती है,

 

तनाव मुक्त रहकर दिल का स्वास्थ्य ठीक रखें

 

तनाव हृदय रोगों के मुख्य कारणों में से एक है। तनाव रक्तचाप और रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि आप तनाव से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आप किसी हॉबी या किसी खेल में अपना मन लगा सकते हैं।

 

वजन पर नियंत्रण जरूरी है

 

हम जो भी खाते हैं, उसका हमारे वजन से सीधा संबंध होता है। यह आपके वजन को बढ़ाने में सहायक नहीं हो सकता है, लेकिन यह आप में कई बीमारियों का कारण भी बन सकता है। अपनी उम्र और लंबाई के अनुसार वजन का पता लगाएं और फिर अपने वजन को नियंत्रित करें, जिसके लिए आप कई तरह के व्यायाम कर सकते हैं।

 

दिल का दौरा पड़ते ही करे ये उपाय

 

यदि दिल का दौरा पड़े तो जोर- जोर से खासे, जिससे हृदय पर दबाव पड़ता है और रक्त का प्रवाह बहुत तेज होता है। खांसने के तुरंत बाद लंबी सांस ले।

 

यदि अचानक आये हार्ट अटैक से मरीज़ की चेतना चली जाये तो सीपीआर और नाक दबा कर मुँह से सांस देने जैसी प्रक्रिया करे। और उसे डॉक्टर के पास तुरंत ले जाएँ


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।