जाने क्या होते हैं मूत्र मार्ग में पथरी होने के संकेत?

Treatment In India

 

आजकल लोगों में पथरी एक आम समस्या बनती जा रही है। इस समस्या से जुड़ी अनियमितताएँ काफी हद तक इस समस्या के लिए जिम्मेदार हैं, जैसे कि ग़लत खान-पान व ज़रूरत से कम पानी पीने से किडनी में पथरी बन जाती है। किडनी की पथरी सबसे ज्यादा होती है, जिसके शुरुआती चेतावनी के संकेत हमें भी मिलते हैं। इस समस्या से बचने के लिए, इन संकेतों की पहचान करना और समय के साथ इसका इलाज करना सबसे महत्वपूर्ण है। तो आइए जानते हैं कि किडनी स्टोन के ये शुरुआती चेतावनी संकेत क्या हैं।

 

दरअसल गुर्दे की पथरी एक मूत्रमार्ग की बीमारी है जिसमें गुर्दे की पथरी चट्टानों की तरह सख्त हो जाती है, जिसे पथरी कहा जाता है। आमतौर पर इन पत्थरों को मूत्र द्वारा शरीर से निकाल दिया जाता है। पथरी कई लोगों में बनती है और बिना किसी समस्या के निकल भी जाती है, लेकिन अगर पथरी बड़ी हो जाती है, तो यह मूत्रवाहिनी में रुकावट का कारण बनती है। इस स्थिति में पेशाब की नली के आसपास असहनीय दर्द होता है। मधुमेह के रोगियों में गुर्दे की पथरी होने की अधिक संभावना होती है।

 

 

क्या होती है पथरी

 

 

विशेषज्ञों के अनुसार, पथरी का कारण गुर्दे में अधिकांश लवणों का जमा होना है। सबसे पहले, पत्थर का एक छोटा सा टुकड़ा (निडस) बनता है, जो चारों ओर जमा नमक रखता है। महिलाओं की तुलना में पुरुषों में पथरी होने की संभावना अधिक होती है। आंतों के साथ इसके पथरी, उच्च रक्तचाप, मोटापा, मधुमेह और अन्य संबंधित समस्याओं के कई आनुवंशिक कारक हो सकते हैं।

 

 

गुर्दे की पथरी के संकेत

 

 

गुर्दे की पथरी से पीठ के निचले हिस्से या पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द हो सकता है, जो कुछ मिनटों या घंटों तक रह सकता है। दर्द के साथ दर्द और उल्टी की शिकायत हो सकती है। यदि मूत्र प्रणाली के किसी हिस्से में संक्रमण होता है, तो इसके लक्षणों में बुखार, कंपकंपी, पसीना आना, पेशाब के साथ दर्द आदि शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा मूत्र में रक्त भी आ सकता है। आइए विस्तार से जानें,

 

बार-बार दर्द के साथ पेशाब होना

 

गुर्दे की पथरी से पीड़ित लोगों को अक्सर बार-बार या दर्दनाक पेशाब आने की शिकायत होती है। ऐसा तब होता है जब मूत्रमार्ग में मूत्राशय से गुर्दे बंद हो जाते हैं। ये संक्रमण बेहद दर्दनाक है और यह अक्सर मूत्र पथ के संक्रमण का कारण बनता है।

 

 

पीठ दर्द

 

गंभीर दर्द गुर्दे की पथरी से पीड़ित लोगों के लिए एक आम समस्या है, विशेष रूप से कमर और कमर के निचले हिस्से में (पसलियों के नीचे जहां गुर्दे स्थित हैं)। दर्द पेट के निचले हिस्से से पेट के मध्य भाग और अग्र भाग तक जा सकता है। यह दर्द तीव्र है और परेशानियों की तरह जागता है।

 

 

बैठने में परेशानी

 

यदि गुर्दे की पथरी बड़ी या काफी उत्तेजक है, तो रोगी को उस क्षेत्र पर दबाव पड़ने के कारण उस क्षेत्र में बैठने में कठिनाई होती है। यहां तक कि वह एक आरामदायक स्थिति में झूठ बोलने में असमर्थ महसूस करता है। यही कारण है कि गुर्दे की पथरी से पीड़ित कई लोग अक्सर खड़े होते हैं।

 

 

पेशाब में खून आना

 

गुर्दे की पथरी से पीड़ित लोगों का मूत्र मार्ग में अक्सर गुलाबी, लाल या भूरे रंग का आना लगता है। जैसा कि स्टोन के बढ़ने और मूत्रमार्ग ब्लॉक हो जाता है, किडनी में पथरी वाले लोगों के मूत्र में रक्त के टिग्नेस आ सकते हैं।

 

 

मतली और उल्टी

 

पेट और मतली में उलझन महसूस करना गुर्दे की पथरी का संकेत हो सकता है और इसमें उल्टी हो सकती है। उल्टी दो कारणों से होती है, पहला कारण है पथरी के स्थानांतरण के कारण होने वाला तेज दर्द और दूसरा यह कि किडनी शरीर के अंदर विषाक्त (टॉक्सिक) को निकालने में मदद करती है और जब इनकी वजह से पथरी अवरुद्ध होती है शरीर से विषाक्त को बाहर निकालने का तरीका उल्टी है।

 

 

बदबूदार मूत्र

 

मूत्र का रंग गुर्दे में पत्थरों के साथ खराब हो जाता है, मूत्र मैला और गंधयुक्त प्रतीत होता है। इस तरह के शरीर में कठोर रसायनों की उपस्थिति होती है जो शरीर में रहते हैं जो क्रिस्टल को बनाते हैं।

 

बुखार और सर्दी लगना

 

गुर्दे की पथरी को अनुपचारित छोड़ने पर, तेज बुखार और ठंड लगने की समस्या अक्सर बनी रहती है। इससे मूत्र पथ के संक्रमण (या यूटीआई) की संभावना बढ़ जाती है। इस हालत में मरीज को तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए।

 

 

ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं और ज्यादा वसा और कार्बोहाइड्रेट वाले आहार खाने से भी किडनी स्टोन की समस्या होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि गुर्दे की पथरी वाले 30% रोगियों में 25 से 35 वर्ष के गुर्दे की विफलता होती है।

 

 

अध्ययनों से पता चला है कि युवाओं में पानी के बजाय सॉफ्ट ड्रिंक लेने की प्रवृत्ति बढ़ी है। जिनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और लोग कम उम्र में गुर्दे की पथरी की समस्या से पीड़ित होते हैं। चॉकलेट और जंक फूड के इस्तेमाल से भी यह समस्या बढ़ती है। इसलिए इन सब चीजों का सेवन कम करे, और ऊपर बताये गए संकेतो का ध्यान रखे कोई भी समस्या होते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे।  

 

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।