फेफड़ों में इन्फेक्शन के लक्षण

Safe20

लंग्स हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। फेफड़ों के संक्रमण से शरीर पर बुरा असर पड़ता है। लंग्स में संक्रमण के कारण सांस लेने में कठिनाई होती है। लंग्स को आम भाषा में फेफड़े कहते है। ठीक से साँस लेने के लिए स्वस्थ फेफड़े बहुत महत्वपूर्ण हैं।

 

जब वायरस, बैक्टीरिया किसी व्यक्ति के फेफड़ों में पहुंचने लगते हैं और विकसित होते हैं, तो फेफड़ों में संक्रमण शुरू हो जाता है। फेफड़ों में वायु की छोटी-छोटी थैलियां होती हैं जिन्हें ‘एयर सैक’ (Air sacs) कहा जाता है। फेफड़ों में संक्रमण के कारण, इन थैलियों में मवाद या अन्य तरल पदार्थ भर जाता है, जिसके कारण रोगी को सांस लेने में कठिनाई होने लगती है।

 

फेफड़ों में इन्फेक्शन के कारण ।

 

 

बर्फ खाना

बच्चे इस गतिविधि को बहुत अधिक करते हैं, वे बर्फ खाना पसंद करते हैं, इससे उनके फेफड़ों में संक्रमण होता है।

 

 

अधिक धूम्रपान करना

जो लोग बहुत अधिक धूम्रपान करते हैं उन्हें फेफड़ों में संक्रमण का खतरा होता है।

 

 

फल के बाद पानी

जैसे, फल खाना सेहत के लिए अच्छा होता है, लेकिन अगर इस पर ध्यान न दिया जाए तो यह सेहत पर असर डालता है। फल खाने के तुरंत बाद पानी पीने से फेफड़ों के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

 

 

पसीना और ठंडा पानी

 

ज्यादातर लोग गर्मियों में पसीने से तर होते हैं और उस स्थिति में ठंडा पानी या कोल्ड ड्रिंक पीते हैं। ऐसा करने से फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है और फेफड़ों के संक्रमण का खतरा होता है।

 

 

बिना प्रदूषण के रहना

 

यदि आप लंबे समय तक बिना मास्क या मुंह ढके धुएं और प्रदूषण से दूर रहते हैं, तो फेफड़ों के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

 

 

आईसीयू वार्ड में मास्कलेस होकर जाएं

 

बिना मास्क के अस्पताल के आईसीयू वार्ड में जाने और लंबे समय तक वार्ड में रहने से भी फेफड़ों में संक्रमण हो सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वार्ड में मौजूद बैक्टीरिया सीधे लंग्स पर हमला करते हैं।

 

 

फेफड़ों के खराब होने लक्षण।

 

 

सांस फूलना

 

यदि आप सीढ़ियां चढ़ते हुए या फिर कोई छोटा-मोटा श्रम करते हुएं साँस फूलने लगती है, तो इसका मतलब है कि आपके फेफड़ों में सब कुछ सही नहीं है। कई बार तो ऐसा होता है कि बिस्तर पर लेटे-लेटे भी सांस फूलने लगती है। यह फेफड़े की किसी गंभीर समस्या के लक्षण हैं। अगर ठीक समय पर इलाज न कराया जाए तो इससे सांस संबंधी गंभीर बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।

 

 

ज्यादा बलगम बनना

 

यदि खांसी करते समय बहुत अधिक कफ निकलता है, तो यह फेफड़ों की गंभीर बीमारी का भी संकेत है। इसके अलावा, यदि आपको तीन महीने से अधिक समय से खांसी हो रही है, तो यह ब्रोंकाइटिस का लक्षण हो सकता है।

 

 

छाती में दर्द

 

सीने में दर्द अक्सर हृदय रोग का एक लक्षण है, लेकिन अगर आपको छींकते, खांसते या सांस लेते समय सीने में दर्द महसूस होता है, तो यह फेफड़ों में वायरस के संक्रमण का संकेत हो सकता है।

 

सांस लेने में कठिनाई

 

यदि आप अपने फेफड़ों से किसी भी तरह की घरघराहट महसूस कर रहे हैं तो यह लंगड़ा शिथिलता का संकेत हो सकता है। इस तरह की समस्या लंग्स में ऑक्सीजन की आपूर्ति ठीक से नहीं होने के कारण या धमनियों में रुकावट के कारण गंदगी या बैक्टीरिया के कारण होती है।

 

लगातार खांसी

 

सर्दी, बुखार और गले में खराश के दौरान खांसी होना आम बात है, लेकिन अगर आपको लगातार 8 हफ्तों से खांसी आ रही है, तो यह ब्रोंकाइटिस, अस्थमा, निमोनिया या टीबी के लक्षण हो सकते हैं।

 

बलगम से खून आना

 

अगर खांसते समय बलगम में खून आता है, तो समझ लें कि आपके फेफड़ों में कुछ बीमारी है। वैसे, बलगम में रक्तस्राव मुख्य रूप से तपेदिक का एक लक्षण है। इसलिए देर न करें लेकिन जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाएं।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।