महिलाओं में इनफर्टिलिटी (Women Infertility) क्या है, जानें बचाव के उपाय

Treatment In India

 

जैसा कि हर महिला शादी के बाद अपने बच्चे को जन्म देना चाहती है, लेकिन कुछ महिलाएं प्रजनन क्षमता में कमी के कारण मां नहीं बन पाती हैं। इसका मुख्य कारण उनकी जीवनशैली में बदलाव और हार्मोनल बदलाव की कमी के कारण बांझपन की समस्या से जूझना पड़ता है। अक्सर कम प्रजनन क्षमता वाली महिलाओं को इस बात की जानकारी नहीं होती है कि वे मां क्यों नहीं बन पा रही हैं और दूसरों के साथ इस पर चर्चा करने में बहुत शर्माती हैं। उन महिलाओं के लिए इस लेख में हम बांझपन के बारे में आपको बताएंगे।

 

महिलाओं में इनफर्टिलिटी क्या है?

 

आपको बता दें कि जब कोई महिला गर्भधारण नहीं कर पाती है तो उस महिला में बांझपन यानि इनफर्टिलिटी इन वुमेन (Infertility in women) भी कहा जाता है। अगर किसी महिला को एक साल तक सेक्स करने के बाद भी गर्भधारण करने में परेशानी हो रही है तो इसका मतलब है कि उस महिला में इनफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है। लेकिन पुरुष बांझपन भी गर्भवती न होने का एक कारण हो सकता है।

 

 

इनफर्टिलिटी (प्रजनन क्षमता की कमी) के क्या कारण हैं?

 

 

  • बांझपन (फर्टिलिटी की कमी) का मुख्य कारण तनाव है।

 

 

  • बांझपन गर्भाशय की असामान्य संरचना के कारण हो सकता है।

 

  • जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ती है, उनके हार्मोन कम होने लगते हैं, जिससे उनके अंडाशय ठीक से काम नहीं कर पाते हैं। ऐसा कारण कोई भी सर्जरी, कीमोथेरेपी, रेडिएशन हो सकता है।

 

 

  • फैलोपियन ट्यूब अंडे को अंडाशय से गर्भाशय तक ले जाती है ताकि भ्रूण विकसित हो सके। लेकिन कोई भी सर्जरी या पैल्विक संक्रमण फैलोपियन ट्यूब को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे महिला बांझपन की स्थिति में आ जाती है।

 

 

यूटेरिन फाइब्रॉएड फर्टिलिटी को कैसे प्रभावित करता है?

 

यूटेरिन फाइब्रॉएड गर्भाशय में मांसपेशियों के ऊतकों के नरम या गैर-कैंसर वाले ट्यूमर होते हैं। फाइब्रॉएड तब बनते हैं जब गर्भाशय की दीवार में एक एकल मांसपेशी कोशिका एक गैर-कैंसर वाले ट्यूमर में विकसित होती है। फाइब्रॉएड गर्भाशय और कभी-कभी गर्भाशय के निचले हिस्से, गर्भाशय ग्रीवा के आकार और आकार को बदल सकते हैं।

महिलाओं में आमतौर पर एक से अधिक फाइब्रॉएड ट्यूमर होते हैं, लेकिन एकल फाइब्रॉएड भी संभव हैं। फाइब्रॉएड का सटीक कारण अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन आनुवंशिक, हार्मोनल और पर्यावरणीय कारकों का संयोजन इसे प्रभावित कर सकता है। फाइब्रॉएड रोगसूचक हैं या उनका इलाज आकार, स्थान और संख्या पर निर्भर करता है।

 

 

बांझपन (इनफर्टिलिटी की कमी) के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of infertility in hindi)

 

 

इनफर्टिलिटी (फर्टिलिटी में कमी) के निम्नलिखित लक्षण ये होते हैं:

 

 

  • लंबे समय तक गर्भ धारण करने में असमर्थता

 

  • अनियमित माहवारी

 

  • 21 दिनों से पहले मासिक धर्म

 

 

ये सभी लक्षण बांझपन का संकेत देते हैं, जिसके लिए समय पर उपचार की आवश्यकता होती है।

 

 

महिला बांझपन का इलाज (Women infertility treatment in Hindi)

 

महिला बांझपन का उपचार मुख्य रूप से बांझपन के कारण पर निर्भर करता है। कुछ मामलों में प्रजनन दवाओं के माध्यम से उपचार संभव है, जबकि कुछ मामलों में सर्जरी और अन्य तकनीकों की भी आवश्यकता होती है। महिला बांझपन का इलाज निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है।

 

फर्टिलिटी मेडिसिन्स: ये दवाएं मुख्य रूप से उन महिलाओं के लिए प्रभावी हैं जिन्हें ओवुलेशन डिसऑर्डर के कारण इनफर्टिलिटी की समस्या है।

 

सर्जरी: जब किसी महिला को अन्य तरीकों जैसे दवा आदि से बांझपन की समस्या से निजात नहीं मिलती है तो डॉक्टर उसे सर्जरी कराने की सलाह देते हैं। ऐसे में लैप्रोस्कोपी या हिस्टेरोस्कोपी सर्जरी कारगर साबित होती है।

 

ऐसे में आपको किसी भी समस्या को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करना खतरनाक होता है। बांझपन भी एक ऐसी ही समस्या है जो इन दिनों बहुत तेजी से फैल रही है। इसलिए समय रहते इसका इलाज कर लेना ही बेहतर होता है। महिला बांझपन के बारे में आपको आवश्यक जानकारी देने की पूरी कोशिश की है, यदि आप या आपके जानने वाली किसी महिला को ऐसी समस्या है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए क्योंकि वही आपको इसका सही इलाज बताएंगे।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।