मोबाइल से होने वाली बीमारी

Safe20

मोबाइल आजकल लोगों की सबसे महत्वपूर्ण जरूरत बन गया है। यह कई सुविधाएं प्रदान करता है, वहीं स्मार्ट फोन लोगों के स्वास्थ्य को नष्ट करने का काम भी कर रहे हैं। लोग खाना खाते समय, सोते हुए, उठते हुए भी मोबाइलों का पीछा नहीं छोड़ते। बड़े तो दूर अब छोटे बच्चे भी स्मार्ट फोन चलाने की बहुत बुरी लत की गिरफ्त में आ रहे हैं, जो उनके स्वास्थ्य को बिगाड़ रहा है। इसका अत्यधिक उपयोग कई शारीरिक और मानसिक बीमारियों को जन्म देता है। कुछ शोधकर्ता स्मार्ट फोन का उपयोग कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी का कारण भी बन सकते हैं।

 

 

मोबाइल फ़ोन से होने वाली खतरनाक बीमारियां

 

 

आंखें कमजोर

 

मोबाइल से निकलने वाली रोशनी आंखों की रोशनी को भी प्रभावित करती है। लंबे समय तक बिना पलक झपकाए आंखें सूखी हो जाती हैं। जिसके कारण जलन, धुंधलापन आदि समस्याएं पैदा होती हैं।

 

 

 

सुनने में परेशानी

 

कुछ लोग आजकल कानों में लगातार कई घंटों तक ईयरफोन लगाए रहते हैं। जिसकी तेज आवाज सुनने की क्षमता को गंभीर रूप से प्रभावित करती है। इससे बिना ईयरफोन के आम आवाजें सुनना मुश्किल हो जाता है। इसके कारण कान की नस कमजोर होने लगती है, जिसके कारण यह जोर से हो जाती है।

 

 

कंप्यूटर विजन सिंड्रोम

 

विज़न काउंसिल ऑफ़ अमेरिका के एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 70 प्रतिशत लोग मोबाइल स्क्रीन को देखते हुए ट्विंकल करते हैं। इस लक्षण के परिणामस्वरूप बाद में कंप्यूटर विजन सिंड्रोम हो सकता है। जिसमें पीड़ित को आँखें सूखने और धुंधला दिखाई देने की समस्या होती है।

 

 

रीढ़ पर प्रभाव

 

यूनाइटेड चिरोप्रैक्टिक एसोसिएशन के अनुसार, लगातार फोन का उपयोग करते समय कंधे और गर्दन मुड़े हुए होते हैं। गर्दन झुके होने के कारण रीढ़ की हड्डी प्रभावित होती है।

 

 

फेफड़ों पर प्रभाव

 

गर्दन झुकने से शरीर पूरी या गहरी साँस लेता है। यह सीधे फेफड़ों को प्रभावित करता है।

 

 

टेक्स्ट नेक

 

मोबाइल स्क्रीन पर नजर रखने वाले लोगों के लिए गर्दन के दर्द की शिकायत आम हो गई है। इसे ‘टेक्स्ट नेक‘ नाम दिया गया है। यह समस्या उन लोगों में अधिक होती है जो टेक्स्ट मैसेज भेजते हैं और जो वेब ब्राउजिंग करते हैं।

 

 

किडनी फेल

 

75 प्रतिशत लोग अपने सेल फोन को बाथरूम में ले जाते हैं, जिससे हर 6 में से 1 फोन पर ई-कोलाई बैक्टीरिया का पता चलने की संभावना बढ़ जाती है। इस बैक्टीरिया के कारण दस्त और गुर्दे की विफलता की संभावना है।

 

 

मोबाइल ने छीनी नींद

 

दो घंटे के लिए, चेहरे पर निरंतर मोबाइल प्रकाश के कारण मेलाटोनिन 22% तक कम हो जाता है। इससे नींद आना मुश्किल हो जाता है। यानी ज्यादा देर तक मोबाइल देखने की वजह से नींद न आने की समस्या हो सकती है। सर्वेक्षण में, 12 प्रति लोगों ने कहा कि स्मार्टफोन का अधिक उपयोग करने से उनके व्यक्तिगत संबंधों पर सीधा प्रभाव पड़ा है।

 

 

आत्मविश्वास घटा रहा स्मार्टफोन

 

सर्वेक्षण में, प्रति 41 लोगों ने स्वीकार किया कि किसी के सामने मूर्ख बनने से बचने के लिए, वे मोबाइल में उलझने के बारे में नौटंकी करते हैं। ऐसा करने से उनका आत्मविश्वास कम हो जाता है।

 

 

ट्यूमर का खतरा

 

मोबाइल फोन के विकिरण से उत्पन्न होने वाली चीजों में कैंसर सबसे बड़ा है। अगर आप अपना मोबाइल फोन पूरे दिन के लिए अपनी जेब या शरीर में रखते हैं, तो रिश्तेदार की जगह ट्यूमर होने की संभावना बढ़ जाती है और आप आसानी से कैंसर बन सकते हैं।

 

 

मस्तिष्क पर भी नकारात्मक प्रभाव

 

अगर आपको रात में शरीर के पास या छाती के पास मोबाइल फोन रखकर सोने की आदत है, तो यह न केवल आपके लिए बहुत खतरनाक हो सकता है। इसके अलावा, इसके विकिरण का प्रभाव आपके मस्तिष्क पर भी नकारात्मक प्रभाव डालता है।

 

 

 

मोबाइल फोन के इलेक्ट्रोमेगनेटिक विकिरणों का प्रभाव

 

यह ज्यादातर पुरुषों में उपयोग किया जाता है कि उनके पास बेल्ट के पास अपना मोबाइल फोन था। पूरे दिन इस तरह से मोबाइल फोन रखना आपके लिए बहुत हानिकारक है। मोबाइल फोन इलेक्ट्रोमैग्नेटिक्स का आपकी हड्डियों पर भी प्रभाव पड़ता है, और उनमें मौजूद तंत्रिका तरल को खत्म किया जा सकता है।

 

 

 

शुक्राणु की कमी

 

पुरुषों में, मोबाइल फोन को कमर के पास रखना बहुत खतरनाक हो सकता है। वास्तव में, मोबाइल विकिरण के नकारात्मक प्रभाव को शुक्राणु में कमी के रूप में भी देखा जा सकता है।

 

 

मस्तिक में ट्यूमर

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक शोध के अनुसार, मोबाइल फोन का अत्यधिक उपयोग मस्तिष्क कैंसर के लिए जिम्मेदार है। इसके विकिरण के प्रभाव के कारण, मस्तिष्क में एक ट्यूमर हो सकता है।

 

 

मानसिक बीमारी

 

मोबाइल फोन से निकलने वाले इलेक्ट्रोमैग्नेटिक्स आपके सभी डीएनए का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, इसके अधिग्रहण ने आपको मानसिक रोगी भी बना दिया है।

 

 

डिप्रेशन

 

तनाव और अवसाद के मुख्य कारणों में से एक मोबाइल फोन से निकलने वाले विकिरण का खतरनाक प्रभाव है। यह आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं को संकरा करता है, जिसके कारण ऑक्सीजन की सही मात्रा मस्तिष्क तक नहीं पहुँच पाती है।

 

 

शिशु के मन पर नकारात्मक प्रभाव

 

गर्भवती महिलाओं द्वारा मोबाइल फोन का अत्यधिक उपयोग भ्रूण को प्रभावित कर सकता है। इससे शिशु के मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, जो उसके विकास को प्रभावित करता है।

 

 

हृदय रोग

 

मोबाइल फोन का हानिकारक विकिरण न केवल कैंसर जैसी बीमारियों को जन्म देता है, बल्कि इससे मधुमेह और हृदय रोगों की संभावना भी कई गुना बढ़ जाती है।

 

 

ऐसे करें बचाव

 

 

शरीर से दूर रखें: शरीर के साथ मोबाइल फोन के संपर्क को कम करने की कोशिश करें। फोन को कभी भी शर्ट या टी-शर्ट की जेब में न रखें। हालाँकि, फोन को पेंट की जेब में रखना भी सही नहीं है। बैग में रखा जाए तो बेहतर है।

 

 

लैंडलाइन का अधिक उपयोग करें: यदि आप किसी कार्यालय में काम करते हैं, तो अपने डेस्क पर मोबाइल रखें और बात करने के लिए लैंडलाइन का उपयोग करें। अगर घर पर भी कोई लैंडलाइन फोन है तो उसका ज्यादा इस्तेमाल करें।

 

 

उपयोग में न होने पर स्विच ऑफ करें: इस पद्धति का उपयोग करना पूरी तरह से हर किसी के बस की बात नहीं है, लेकिन इसे जितना संभव हो उतना किया जाना चाहिए। रात को सोते समय आप अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर सकते हैं।

 

 

स्पीकर पर बात करें: बातचीत के लिए हैंड्स फ्री स्पीकर या ईयर फोन का इस्तेमाल करना बेहतर है। बात पूरी होने के बाद, कान से ईयर फोन हटा दें। अगर आप हैंड्स फ्री स्पीकर का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं तो फोन को कान से लगभग 1-2 सेंटीमीटर की दूरी पर रखकर बात करें।

 

व्हाट्सएप या मैसेज का उपयोग करें: छोटी चीजों के लिए, कॉल के बजाय व्हाट्सएप या मैसेज करना बेहतर है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।