शुक्राणु की कमी के लक्षण, कारण और इलाज

जाने शुक्राणु की कमी का मतलब

 

 

शुक्राणु की कमी का मतलब है सेक्स के दौरान पुरुषों के लिंग से वीर्य का कम निकलना। शुक्राणुओं की संख्या में कमी को ओलिगोस्पर्मिया भी कहा जाता है। वीर्य में शुक्राणुओं का पूरी तरह से खत्म होना एजुस्पर्मिया कहलाता है। शुक्राणु की कमी के कारण, आप अपने यौन साथी को गर्भ धारण करने की संभावना बहुत कम हैं। इसके बावजूद, कई पुरुष जिनके शुक्राणु कम हैं, वे बच्चे पैदा करने में सक्षम हैं।

 

 

शुक्राणु की कमी के कारण

 

 

शुक्राणु का निर्माण एक बहुत ही दुर्लभ प्रक्रिया है, इसके लिए, हाइपोथेलेमस और पिट्यूटरी ग्रंथि को भी वृषण के साथ काम करना पड़ता है।

 

  • भारी धातुओं के संपर्क में आना – सीसा (Lead) या अन्य भारी धातुओं के लंबे समय तक संपर्क में रहने के कारण प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है।

 

  • वृषण का अधिक गरम होना – यह आपके शुक्राणुओं की संख्या को भी प्रभावित करता है।

 

  • मोटापा – मोटापा शरीर में हार्मोनल परिवर्तन का कारण बन सकता है, जिसके परिणामस्वरूप पुरुषों की प्रजनन क्षमता कमजोर हो सकती है।

 

  • अत्यधिक दवा का सेवन – यह समस्या अक्सर उन लोगों में देखी जाती है जो अत्यधिक मात्रा में नशीली शराब, धूम्रपान का उपयोग करते हैं।

 

  • संक्रमण – कुछ संक्रमण शुक्राणु और स्वस्थ लोगों के उत्पादन को प्रभावित करते हैं जैसे कि कुछ यौन संचारित रोग।

 

  • तनाव – लंबे समय तक तनाव के कारण, शुक्राणु पैदा करने वाले कुछ आवश्यक हार्मोन असंतुलित होते हैं।

 

 

शुक्राणु कम होने के लक्षण

 

 

  • यौन गतिविधि की समस्याएं – कामेच्छा में कमी या लिंग को दृढ (erect) बनाए रखने में कठिनाई।

 

  • चेहरे या शरीर के बाल या गुणसूत्र या हार्मोन असामान्यता के अन्य लक्षणों का नुकसान

 

  • यदि आप नियमित और बिना कंडोम संभोग के एक साल के बाद भी अपने यौन साथी को गर्भ धारण करने में असमर्थ हैं।

 

  • यौन गतिविधि से संबंधित समस्याएं, जैसे – लिंग का सख्त होना, स्खलन की समस्या, यौन रुचि की घटनाएँ या अन्य यौन गतिविधि की समस्याएं।

 

  • दर्द, वृषण(testicles) क्षेत्र में असुविधा, गांठ या सूजन।

 

  • वृषण, प्रोस्टेट(Prostate) या यौन समस्याओं का एक इतिहास वृषण, प्रोस्टेट या यौन समस्याओं से पहले हो सकता है।

 

 

 

शुक्राणु की कमी से बचाव

 

  • धूम्रपान न करें।

 

  • अल्कोहल का सेवन सीमित मात्रा में करें या बिलकुल बंद कर दें।

 

  • ड्रग्स से दूर रहें।

 

  • अपने चिकित्सक से उन दवाओं के बारे में बात करें, जो शुक्राणुओं के उत्पादन को प्रभावित कर सकती हैं।

 

 

  • गर्मी से बचें तनाव से दूर रहे कीटनाशकों, भारी धातुओं और अन्य विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आने से बचें

 

 

शुक्राणु की कमी का उपचार

 

 

सर्जरी(surgery) – वृषण से निकलने वाली नसों की सूजन को सर्जरी द्वारा ठीक किया जा सकता है या यदि शुक्राणु वाहिनी में रुकावट है, तो इसे सर्जरी द्वारा भी ठीक किया जा सकता है।

 

संक्रमण का इलाज(Treatment of infection) – एंटीबायोटिक्स प्रजनन अंगों में संक्रमण का इलाज कर सकते हैं, लेकिन ये दवाएं प्रजनन क्षमता बढ़ाने में असमर्थ हो सकती हैं।

 

हार्मोन उपचार और दवाएं।  – “हार्मोन रिप्लेसमेंट” (बदलते हार्मोन) या कुछ दवाओं का उपयोग हार्मोन के स्तर को बदलने के लिए किया जा सकता है। तीन से छह महीने के बाद इसका प्रभाव आपके वीर्य विश्लेषण में देखा जा सकता है।

 

असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नीक (एआरटी) – एआरटी के उपचार में सामान्य स्खलन द्वारा निकाले गए शुक्राणु का संग्रह, सर्जरी द्वारा, या एक डोनर द्वारा दिया जाता है। यह शुक्राणु तब महिला के जननांग में डाला जाता है या इन विट्रो निषेचन (IVF) या इंट्रासाइटोप्लास्मिक शुक्राणु इंजेक्शन के लिए उपयोग किया जाता है।

 

 

शुक्राणु से अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न- (Frequently asked questions about sperm)

 

 

 

1. क्या शुक्राणु की कमी से गर्भधारण करने में दिक्कत आती हैं ? (Does lack of sperm cause difficulty in conceiving?)

 

 

शुक्राणु में कमी होने पर गर्भधारण करने यानी माता-पिता बनने / संतान का सुख प्राप्त करने में दिक्कत आती है। हालांकि, कुछ मामलों में शुक्राणु की कमी के बावजूद भी कुछ पुरुष बच्चा पैदा करने में सक्षम हो पाते हैं।

 

 

2. आमतौर पर शुक्राणु की संख्या कितनी होनी चाहिए ? (What should be the normal sperm count?)

 

 

आमतौर पर शुक्राणु की संख्या एक मिलीलीटर वीर्य में 1.5 करोड़ होनी चाहिए। अगर आपके एक मिलीलीटर वीर्य में शुक्राणु की संख्या 1.5 करोड़ से कम है तो इसे शुक्राणु की सामान्य संख्या से कम समझा जाता है।

 

 

3. शुक्राणु की कमी के लक्षण क्या होते हैं ? (What are the symptoms of sperm deficiency?)

 

 

शुक्राणु की कमी के लक्षण में बालों का असामान्य गिरना, शारीरिक कमजोरी, स्तन में बढ़ोतरी, कामेच्छा में कमी, स्खलन की समस्या और शुक्राणुओं की संख्या में कमी शामिल हो सकती हैं।

 

 

4. शुक्राणु कब कमजोर हो जाते हैं ? (When do sperm become weak?)

 

 

किसी पुरुष में शुक्राणु कम(low sperm count) होने के कई कारण हो सकते हैं. यह हार्मोन में अनुवाँशिक असंतुलन की वजह से भी होता और अधिक नशा करने से ऐसा होने की सम्भावना बढ़ जाती हैं. अगर जीवनशैली सही ना हो, मसलन आपको अच्छी नींद ना आती हो, आप तनाव में रहते हों तो ऐसी स्थिति में आपके लैंगिक स्वास्थ्य पर भारी असर पड़ सकता है |

 

 

 

यदि आपशुक्राणु की कमी इलाज कराना चाहते हैं, या इससे सम्बंधित किसी भी समस्या का इलाज कराना चाहते हैं, या कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें। इसके अलावा आप प्ले स्टोर (play store) से हमारा ऐप डाउनलोड करके डॉक्टर से डायरेक्ट कंसल्ट कर सकते हैं। आप हमसे व्हाट्सएप (+91 959900411) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमे connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

 

Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।