जाने वीर्य की कमी के लक्षण और दूर करने के उपाय

वीर्य की कमी का मतलब है सेक्स के दौरान पुरुषों के लिंग से कम वीर्य निकलना। शुक्राणुओं की संख्या में कमी को ओलिगोस्पर्मिया भी कहा जाता है। वीर्य में शुक्राणु के पूर्ण उन्मूलन को एडुपर्मिया कहा जाता है। शुक्राणु की कमी के कारण, आप अपने पार्टनर को गर्भ धारण करने की संभावना को बहुत कम कर देते हैं। इसके बावजूद, बहुत से पुरुष जिनके शुक्राणु कम हैं, वे बच्चे पैदा करने में सक्षम हैं।

 

आज के समय में मर्दो के वीर्य में शुक्राणुओं की कमी(lack of sperm in semen) ज्यादा देखने को मिलती है और ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि उनकी जीवनशैली दिन बा दिन बिगड़ती जा रही है। आसान शब्दों में कहे तो, पुरुष में उत्तेजना और स्खलन के दौरान मूत्रमार्ग से निकलने वाले द्रव को वीर्य कहा जाता है। सामान्य शुक्राणु की संख्या(Normal sperm count) कितनी होती है।

 

Enquire Now

 

एक पुरुष के वीर्य में शुक्राणु की संख्या सामान्य रूप से 15 मिलियन शुक्राणु से 200 मिलियन से अधिक शुक्राणु प्रति मिलीलीटर (एमएल) तक होती है। यदि एक मिलीलीटर वीर्य में पुरुष वीर्य में 15 मिलियन से कम शुक्राणु होते हैं, तो उन्हें शुक्राणु की समस्या कम होती है। यदि आप इस बीमारी से सम्बंधित कुछ भी सवाल पूछना चाहते हैं तो अभी डॉक्टर से कंसल्ट करें डॉक्टर से कंसल्ट करने के लिए तो यहाँ क्लिक करें

 

 

शुक्राणु की कमी के कारण (Shukranu ki kami ke karan in hindi)

 

  • शुक्राणु गठन एक बहुत ही दुर्लभ प्रक्रिया है, इसके लिए, हाइपोथैलेमस और पिट्यूटरी ग्रंथि को भी वृषण के साथ काम करना पड़ता है।

 

 

  • वृषण अधिक गरम होना(Testicular overheating) – यह आपके शुक्राणुओं की संख्या को भी प्रभावित करता है।

 

  • मोटापा(Obesity) – मोटापा शरीर में हार्मोनल परिवर्तन का कारण बन सकता है, जिसके परिणामस्वरूप पुरुषों की प्रजनन क्षमता कमजोर हो जाती है।

 

  • अत्यधिक दवा का सेवन(excessive drug abuse) – यह समस्या अक्सर उन लोगों में देखी जाती है जो अत्यधिक मात्रा में शराब, धूम्रपान का सेवन करते हैं।

 

  • संक्रमण(Infection) – कुछ संक्रमण शुक्राणु और स्वस्थ लोगों के उत्पादन को प्रभावित करते हैं जैसे कि कुछ यौन संचारित रोग।

 

  • तनाव(Tension) – लंबे समय तक तनाव के कारण, शुक्राणु पैदा(Produce sperm) करने वाले कुछ आवश्यक हार्मोन असंतुलित होते हैं।

 

 

अन्य कारण

 

 

  • शुक्राणु उत्पादन की समस्याएं – गुणसूत्र, या आनुवंशिक कारण

 

  • स्खलन के साथ समस्याएं

 

 

 

  • निवास के अंतर की अनुपस्थिति

 

  • वास / एपिडीडिमिस की रुकावट

 

 

शुक्राणु की कमी से बचाव (Shukranu ki Kami se Bachav in hindi)

 

  • धूम्रपान नहीं करना चाहिए।

 

  • सीमित मात्रा में शराब पीना या पूरी तरह से बंद कर देना।

 

  • दवाओं से परहेज करें।

 

 

Enquire Now

 

 

वीर्य की कमी के लक्षण (Virya ki kami ke Lakshan in hindi)

 

  • यौन गतिविधि की समस्याएं – स्तंभन को बनाए रखने में कामेच्छा में कमी या कठिनाई।

 

  • चेहरे या शरीर के बाल या क्रोमोसोमल या हार्मोन असामान्यता के अन्य लक्षणों का नुकसान

 

  • यदि आप नियमित और बिना कंडोम संभोग के एक साल बाद भी अपने यौन साथी को गर्भ धारण करने में असमर्थ हैं।

 

  • यौन गतिविधि से संबंधित समस्याएं, जैसे लिंग का सख्त होना, स्खलन की समस्या, यौन रुचि की घटनाएं या अन्य यौन गतिविधि की समस्याएं।

 

  • दर्द, वृषण क्षेत्र में असुविधा, गांठ या सूजन।

 

  • वृषण, प्रोस्टेट या यौन समस्याओं का इतिहास वृषण, प्रोस्टेट या यौन समस्याओं से पहले हो सकता है।

 

 

 

शुक्राणु की जांच

 

ओलिगोस्पर्मिया(oligospermia) के अधिकांश मामलों का पता तब चलता है जब एक बार एक पुरुष पिता बनने की कोशिश करता है, और जब प्राकृतिक असुरक्षित संभोग के एक साल बाद गर्भावस्था नहीं होती है, तो प्रजनन स्थिति के लिए पुरुष और महिला दोनों साथी का परीक्षण किया जाता है।

 

एक स्त्री रोग विशेषज्ञ या बांझपन सलाहकार वीर्य विश्लेषण परीक्षण यानी स्पर्म काउंट टेस्ट से करवाते है। शुक्राणु की कमी या ओलिगोस्पर्मिया का निदान वीर्य विश्लेषण परीक्षण में पाए गए कम शुक्राणुओं की संख्या पर आधारित होता है।

 

 

वीर्य की कमी को दूर करने के उपाय। (Virya ki Kami ko door karne ke Upay in hindi)

 

 

पर्याप्त व्यायाम और नींद लें

 

कई अध्ययनों से पता चलता है कि अधिक वजन वाले लोग अपना वजन कम करते हैं और व्यायाम से शुक्राणुओं की संख्या बढ़ जाती है और उनकी गुणवत्ता में सुधार होता है। इसलिए पर्याप्त नींद लें और शुक्राणु की मात्रा में सुधार के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें

 

धूम्रपान छोड़ने

 

आप नहीं जानते होंगे, लेकिन तंबाकू और धूम्रपान शुक्राणु की गुणवत्ता को कम करते हैं। 2016 में किए गए एक अध्ययन से यह भी पता चला है कि धूम्रपान और शुक्राणु का निकट संबंध है। तो शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए, आज धूम्रपान छोड़ दें। धूम्रपान के अलावा आपको शराब और ड्रग्स से भी दूर रहना चाहिए।

 

दवाओं का उपयोग

 

कुछ प्रकार की दवाओं का सेवन भी संभावित रूप से एक पुरुष के शुक्राणु उत्पादन को कम कर सकता है। एक बार जब कोई व्यक्ति दवा लेना बंद कर देता है, तो उसके शुक्राणुओं की संख्या फिर से बढ़ जाती है। इन दवाओं में एंटीबायोटिक्स, एंटी-एण्ड्रोजन, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-डिप्रेसेंट आदि शामिल हैं।

 

मेंथी

 

स्पर्म काउंट बढ़ाने और सुधारने में मेथी बहुत फायदेमंद है। इसके लिए आपको अपने आहार में मेथी को शामिल करना चाहिए। इसके अलावा, मेथी वाले उत्पादों को अपने आहार का हिस्सा बनाएं।

 

पर्याप्त विटामिन डी

 

2019 में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि विटामिन डी और कैल्शियम का पर्याप्त स्तर शुक्राणु स्वास्थ्य में सुधार करता है। शोध बताते हैं कि कैल्शियम की कमी शुक्राणुओं की संख्या पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। इसलिए कैल्शियम और विटामिन डी युक्त चीजों को अपने आहार का हिस्सा बनाएं।

 

अश्वगंधा

 

अश्वगंधा, जिसे भारतीय जिनसेंग के रूप में भी जाना जाता है, कई प्रकार के यौन रोगों को खत्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए आप अश्वगंधा का इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए अच्छे अस्पताल। (Top hospitals for treatment of semen deficiency in hindi)

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए अच्छे अस्पताल।,Top hospitals for treatment of semen deficiency

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए दिल्ली के अच्छे अस्पताल।

 

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए गुरुग्राम के अच्छे अस्पताल।

 

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए ग्रेटर नोएडा के अच्छे अस्पताल।

 

  • शारदा अस्पताल ,ग्रेटर नोएडा
  • यथार्थ अस्पताल , ग्रेटर नोएडा
  • बकसन अस्पताल ग्रेटर नोएडा
  • जेआर अस्पताल ,ग्रेटर नोएडा
  • प्रकाश अस्पताल ,ग्रेटर नोएडा
  • शांति अस्पताल , ग्रेटर नोएडा
  • दिव्य अस्पताल , ग्रेटर नोएडा

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए चेन्नई के अच्छे अस्पताल।

 

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए मुंबई के अच्छे अस्पताल।

 

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए बैंगलोर के अच्छे अस्पताल।

 

 

 

वीर्य की कमी के इलाज के लिए कोलकाता के अच्छे अस्पताल।

 

 

यदि आप इनमें से कोई अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न- (Most frequently asked questions-)

 

 

1. क्या शुक्राणु की कमी से गर्भधारण किया जा सकता है ? (Can pregnancy be achieved due to lack of sperm?)

 

शुक्राणु में कमी होने पर गर्भधारण करने यानी माता-पिता बनने / संतान का सुख प्राप्त करने में दिक्कत आती है। हालांकि, कुछ मामलों में शुक्राणु की कमी के बावजूद भी कुछ पुरुष बच्चा पैदा करने में सक्षम हो पाते हैं।

 

 

2. शुक्राणु की संख्या कितनी होनी चाहिए ? (What should be the sperm count?)

 

आमतौर पर शुक्राणु की संख्या एक मिलीलीटर वीर्य में 1.5 करोड़ होनी चाहिए। अगर आपके एक मिलीलीटर वीर्य में शुक्राणु की संख्या 1.5 करोड़ से कम है तो इसे शुक्राणु की सामान्य संख्या से कम समझा जाता है।

 

 

3. शुक्राणु की कमी के लक्षण क्या नजर आते हैं ? (What are the symptoms of sperm deficiency?)

 

 

शुक्राणु की कमी के लक्षण में बालों का असामान्य गिरना, शारीरिक कमजोरी, स्तन में बढ़ोतरी, कामेच्छा में कमी, स्खलन की समस्या और शुक्राणुओं की संख्या में कमी शामिल हो सकती हैं।

 

 

4. शुक्राणु कब कमजोर हो जाते हैं ? (When do sperm become weak?)

 

किसी पुरुष में शुक्राणु कम होने के कई कारण हो सकते हैं. यह हार्मोन में अनुवाँशिक असंतुलन की वजह से भी होता और अधिक नशा करने से ऐसा होने की सम्भावना बढ़ जाती हैं। अगर जीवनशैली सही ना हो, मसलन आपको अच्छी नींद ना आती हो, आप तनाव में रहते हों तो ऐसी स्थिति में आपके लैंगिक स्वास्थ्य पर भारी असर पड़ सकता है |

 

 

यदि आप वीर्य की कमी का इलाज कराना चाहते हैं, या इससे सम्बंधित किसी भी समस्या का इलाज कराना चाहते हैं, या कोई सवाल पूछना चाहते हैं – यहाँ क्लिक करें। इसके अलावा आप प्ले स्टोर (play store) से हमारा ऐप डाउनलोड करके डॉक्टर से डायरेक्ट कंसल्ट कर सकते हैं। आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमे connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।