जिम में ज्‍यादा वर्कआउट करने से हो सकते हैं ये नुकसान

हम आपको कभी यह सलाह नहीं देगें कि आप अपनी जिम की वर्कआउट (Workout) को मिस कर दें। पर जिम (Gym) में बहुत ज्‍यादा कसरत करने से भी कोई भला नहीं पहुंचता। जिम में हमेशा अपनी क्षमता अनुसार ही वर्कआउट करना चाहिये।

 

लेकिन कुछ लोग मसल्‍स (Muscles) बनाने या वजन कम करने के चक्‍कर में हद से ज्‍यादा वर्कआउट करते हैं, जिससे खुद को चोट पहुंचती है। दोस्‍तों, कभी-कभी थकान होना अलग बात है लेकिन सांस भूलना या सांस ज्यादा उफनना सही नहीं है।

 

आइये जानते हैं जिम में ज्‍यादा वर्कआउट करने के क्‍या नुकसान झेलने पड़ सकते हैं आपको।

 

सांस फूलना

 

एक्सरसाइज़ (Exercise) के दौरान सांस उफनना ठीक है लेकिन जब आप वर्कआउट नहीं कर रहे हैं तब भी ऐसा होता है तो आप यह वर्क आउट ज्यादा कर रहे हैं। यदि आप रुक जाते हैं या एक विराम ले लेते हैं तो यह 60 सेकंड में ठीक हो जाता है। यदि आपको सांस जल्दी नहीं आती है तो इसका मतलब है कि आपने वर्कआउट ज्यादा हार्ड किया है। ऐसी स्थिति में ठीक होने में थोड़ा समय लगता है लेकिन शरीर सामान्य काम करता है। फिर भी यदि आपको पैरों और टखनों में सूजन, तेज बुखार (Fever), खांसी, सर्दी लगना, अंगुलियों का नीला पड़ना और घरघराहट होती है तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए ये हार्ट अटैक (Heart Attack) के लक्षण हो सकते हैं।

 

सीने में परेशानी

 

किसी बड़े व्यायाम के बाद यदि सांस घुटने के अलावा सीने में बेचैनी महसूस होती है तो इसे हल्के में न लें। यह हार्ट अटैक या एंजिमा (Enzema) का लक्षण हो सकता है। ध्यान दें: सीने के सारे दर्द एक जैसे होते हैं चाहे वह जलन हो, चोट लगी हो या भारीपन हो।

 

उल्टी आना

 

यह जाहिर सी बात है कि व्यायाम के दौरान या बाद में खाया-पिया निकाल देना सही नहीं है। यदि आपको यह ज्यादा हो रहा है तो आपको जिम में आपने आहार में बदलाव करने की आवश्यकता है। वर्कआउट के दौरान उल्टी (Vomit) जैसा होता है तो इसका मतलब है कि आपको डिहाईड्रेशन (Dehydration) है या आपके शरीर में गर्मी हो रही है। गर्मी से थकान महसूस होने पर आपको तुरंत ठंडी जगह पर आराम करना चाहिए, यदि आप इसे नजर अंदाज करते हैं तो इससे हीट स्ट्रोक (Heart Stroke), शरीर के अंगों में खराबी या मौत भी हो सकती है।

 

बुखार

 

बीमारी के दौरान व्यायाम करने की सलाह नहीं दी जाती है खास तौर पर जब आपको बुखार (Fever) हो। यदि बुखार 100.5 डिग्री से ज्यादा हो तो आपको वर्कआउट नहीं करना चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं तो आप अपने आपको वायरल मायोकार्डिटिस के खतरे में डाल रहे हैं। वायरल मायोकार्डिटिस हृदय की मांसपेशियों में सूजन है और खतरनाक साबित हो सकती है। बुखार में व्यायाम करने पर वायरल मायोकार्डिटिस (Viral Myocarditis) के अलावा डिहाईड्रेशन और ओवर हीटिंग का खतरा भी बढ़ जाता है।

 

मांसपेशियों में दर्द

 

वर्कआउट के दौरान या इसके आधे से एक घंटे के बीच आपको जोड़ों में दर्द भी हो सकता है। लेकिन यदि इसके बाद भी यह होता है तो सावधान रहने की आवश्यकता है। यदि वर्कआउट (Workout) के अगली सुबह भी जोड़ों में दर्द होता है तो इसका मतलब है कि आपने वर्कआउट ज्यादा कर लिया है। यदि सामान्य दिनों में भी ऐसा दर्द रहता है तो आपको कुछ आराम की आवश्यकता है।

 

सही नींद नहीं आना

 

दिन में एक्टिव रहने से आपको रात को अच्छी नींद आती है। लेकिन यदि आप ज्यादा वर्कआउट कर रहे हैं तो इसका उल्टा हो सकता है। ज्यादा वर्कआउट करने से बेचैनी, थकान, नींद नहीं आना या ज्यादा आना जैसी परेशानियाँ हो सकती हैं लेकिन जब आप इसे कम कर देते हैं तो आपकी नींद सामान्य होने लगती है।

 

व्यायाम कम कर पाना

 

यदि आप लगातार वर्कआउट कर रहे हैं तो ध्यान दें कि आपका परफॉर्मेंस सुधरा है या वैसा ही है। यदि आपको थकान पहले से ज्यादा हो रही है तो हो सकता है कि आप ज्यादा कर रहे हैं। इसलिए जब भी वर्कआउट करें तो क्वालिटी (Quality) पर ध्यान दें न कि क्वान्टिटी पर। आप यदि सोचते हैं कि सिर्फ ज्यादा व्यायाम करना ही फायदेमंद है तो आप गलत हैं।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।