आईवीएफ क्या है जानिए इससे जुड़ी बातें

Treatment In India

 

 

आईवीएफ का फुल फॉर्म है इन विट्रो फर्टिलाइज़ेशन (In vitro fertilization IVF) होता है। यह एक प्रजनन उपचार का तरीका है। दरअसल इसमें एग को अप्राकृतिक तरीके से शुक्राणु के साथ मिलाया जाता है। यह प्रक्रिया मेडिकल इंजीनियरिंग में नियंत्रित परिस्थितियों में की जाती है।

 

यह प्रक्रिया बांझ दंपतियों और उन लोगों के लिए सहायक है, जिन्हें कोई आनुवांशिक समस्या होती है। आपको बता दें की इस प्रक्रिया से बच्चों को पैदा किया जाता है और इस प्रक्रिया से जन्म लेने वाले बच्चे को टेस्ट टियूब बेबी (test tube baby) कहा जाता है।

 

 

 

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन प्रक्रिया कैसे जाती है (How goes the in vitro fertilization process in Hindi)

 

 

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (In vitro fertilization IVF) ऐसी प्रक्रिया है जिसका उपयोग एक महिला की प्रजनन क्षमता में मदद करने के लिए किया जाता है या आनुवांशिक समस्याओं को रोकने और एक बच्चे को जन्म देने के लिए किया जाता है।

 

 

आईवीएफ के दौरान, परिपक्व अंडे अंडाशय से एकत्र (retrieved) किए जाते हैं और एक प्रयोगशाला में शुक्राणु द्वारा निषेचित होते हैं। फिर फर्टिलाइज़्ड एग (embryo) या एग (embryo) को एक गर्भाशय में स्थानांतरित किया जाता है। दरअसल आईवीएफ के एक पूरे चक्र में कम से कम तीन सप्ताह लगते हैं। कभी-कभी इन चरणों को विभिन्न भागों में विभाजित किया जाता है और इस प्रक्रिया में अधिक समय लग सकता है।

 

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF In vitro fertilization IVF) असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी का सबसे प्रभावी रूप माना जाता है। इस प्रक्रिया में खुद के एग और अपने साथी के शुक्राणु का उपयोग किया जा सकता है या आईवीएफ में एक अज्ञात एग (embryo) शुक्राणु शामिल हो सकता है। कुछ मामलों में, एक गर्भवती महिला जिसके पास उसके गर्भाशय में प्रत्यारोपित भ्रूण (embryo) है उसका उपयोग किया जा सकता है।

 

 

इस प्रक्रिया का उपयोग करके वह महिला एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकती है। ये उन महिलाओं की समस्या को हल कर सकती है जिनकी उम्र अधिक होती है या जो बांझपन का शिकार हैं। इसके अलावा एक से अधिक भ्रूण आपके गर्भाशय में स्थानांतरित हो जाते हैं, तो आईवीएफ के परिणामस्वरूप एक से अधिक भ्रूण (multiple pregnancy) का कारण बनती हैं।

 

 

आपको ये नहीं मालूम होगा की इस प्रक्रिया को करने की शुरुआत से, आपको कुछ बातों को ध्यान रखना बहुत जरुरी है वरना ये आपके लिए और होने वाले बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकता है। जैसे दौड़ना, गाड़ी चलाना, तेज चलना, तैरना या भारी चीजें उठाना प्रतिबाधित हैं। यह आपके शरीर की प्रक्रिया को लगातार बनाए रखने के लिए किया जाता है।

 

 

 

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन के लिए कुछ सावधानियां (Some precautions for in vitro fertilization in Hindi)

 

 

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) बांझपन या आनुवांशिक समस्याओं का बहुत अच्छा इलाज है। यदि आईवीएफ बांझपन का इलाज करने के लिए किया जाता है, तो आप और आपका साथी आईवीएफ को अपने जीवन का हिस्सा बना सकते हैं। जिसमें अंडे या अंतगर्भाश्य गर्भाधान के उत्पादन को बढ़ाने के लिए प्रजनन दवाएं शामिल हैं – एक प्रक्रिया जिसमें शुक्राणु को सीधे आपके गर्भाशय में रखा जाता है।

 

 

 

फैलोपियन ट्यूब डैमेज या ब्लॉकेज (Fallopian tube damage or blockage) : फैलोपियन ट्यूब डैमेज या ब्लॉकेज के कारण अंडे का निषेचित होना या भ्रूण के लिए गर्भाशय तक पहुँचना मुश्किल हो जाता है।

 

 

 

ओवुलेशन डिसऑर्डर (Ovulation disorders): यदि ओव्यूलेशन अपर्याप्त या अनुपस्थित है, तो संबंध के लिए कम अंडो की जरूरत होती है ।

 

 

 

एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) : एंडोमेट्रियोसिस तब होता है जब गर्भाशय के ऊतकों का प्रत्यारोपण होता है। अक्सर अंडाशय, गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूबों के कार्य को प्रभावित करता है।

 

 

 

गर्भाशय फाइब्रॉएड (Uterine fibroids): फाइब्रॉएड गर्भाशय की दीवार में सौम्य ट्यूमर हैं और 30 और 40 के दशक में महिलाओं में आम हैं। निषेचित अंडे के आरोपण के साथ फाइब्रॉएड हस्तक्षेप कर सकता है।

 

 

 

नसबंदी (Previous tubal sterilization or removal): यदि आपको ट्यूबल लिगेशन (tubal ligation) है इसका मतलब एक प्रकार की नसबंदी से होता है। जिसमें गर्भावस्था को रोकने के लिए आपकी फैलोपियन ट्यूब को काट दिया जाता है या ब्लॉक कर दिया जाता है।

 

 

 

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन के जोखिम (Risk of in vitro fertilization in Hindi)

 

 

मल्टीप्ल बर्थ (Multiple births) : यदि एक से अधिक भ्रूण आपके गर्भाशय में स्थानांतरित होते हैं, तो आईवीएफ कई जन्मों के जोखिम को बढ़ाता है। एक से अधिक एग के साथ गर्भावस्था की तुलना में शुरुआती प्रसव और जन्म के समय जन्मे बच्चे का वजन कम या अधिक हो सकता है।

 

 

 

प्रीमैच्योर डिलीवरी एंड लो बर्थ वेट (Premature delivery and low birth weight) : एक शोध से पता चलता हैं कि आईवीएफ से यह खतरा थोड़ा बढ़ जाता है कि बच्चा जल्दी पैदा हो सकता है।

 

 

 

गर्भपात (Miscarriage) : नए एग के साथ आईवीएफ का उपयोग करने वाली महिलाओं के साथ गर्भपात का खतरा भी बढ़ जाता है। जो स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करती हैं (Egg-retrieval procedure complications) लगभग 15% से 25% – लेकिन मातृ आयु के साथ दर में वृद्धि होती है।

 

 

 

एग-रेटेरीवाल प्रोसीजर कम्प्लीकेशन (Egg-retrieval procedure complications) : एग इकठ्ठा करने के लिए एक सुई का उपयोग संभवतह रक्तस्राव, संक्रमण या रक्त वाहिका को नुकसान पहुंचा सकता है। यदि इसका उपयोग किया जाता है, तो सिर्फ महिला को बेहोश करने के लिए ऐसा किया जाता है।

 

 

 

अस्थानिक गर्भावस्था (Ectopic pregnancy) : इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (In vitro fertilization IVF) का उपयोग करने वाली लगभग 2% से 5% महिलाओं में एक अस्थानिक गर्भावस्था होगी। गर्भाशय के बाहर एग ट्रांसप्लांट आमतौर पर एक फैलोपियन ट्यूब में होता है। निषेचित (Fertilized) एग गर्भाशय के बाहर जीवित नहीं रह सकता है और गर्भावस्था को जारी रखने का कोई तरीका नहीं होता है।

 

 

 

जन्म दोष (Birth defects) : जन्म दोषों के विकास में मााँ की उम्र प्राथमिक जोखिम कारक होती है। यह जानने के लिए कई शोध की आवश्यकता है कि क्या आईवीएफ का उपयोग करके गर्भ धारण करने वाले शिशुओं में कुछ जन्म दोषों का खतरा बढ़ सकता है।

 

 

यदि आपके मन में इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (In vitro fertilization IVF) को लेकर किसी भी तरह का प्रश्न है तो आप हमारे डॉक्टर से सलाह ले सकते है और अपने किसी भी समस्या का समाधान पा सकते हैं


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।