जाने कैसे रखे अपने गुर्दे का ख्याल

Safe20

आज कल के समय में इंसान को कई बीमारी होने का खतरा ज्यादा होता है। जिनमें सबसे एहम है गुर्दे की बीमारी। तो आज हम बताएंगे की आप कुछ “ऐसे रखे अपने गुर्दे का ख्याल”। भारत में ज्यादातर लोगों को गुर्दे की समस्या रहती है, इनमें से ज्यादातर लोग ऐसे होते है, जिन्हें इसका पता काफी बाद में चलता है। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। जिसके बाद डॉक्टर उस रोगी की किडनी का ट्रांसप्लांट करते है या उसे डायलेसिस पर रखते है।

 

गुर्दे की खराबी के लक्षण

 

  • चेहरे एवं पैरों में सूजन आना

 

 

  • उल्टी होना

 

 

  • जल्दी थकान

 

  • शरीर में रक्त की कमी

 

  • उच्च रक्तचाप

 

  • ज्यादा पेशाब जाना

 

  • पेशाब करते वक़्त दर्द होना

 

  • ज्यादा प्यास लगना

 

  • पेट में दर्द होना

 

ये सभी लक्षण आपके गुर्दे ख़राब होने के लक्षणों को बताते है। ज्यादातर लोगों को यह बीमारी इसलिए होती है, क्योंकि वह गंदे पानी और शराब का सेवन अधिक करते है। यदि एक बार किसी व्यक्ति का गुर्दा ख़राब हो जाता है, तो उस व्यक्ति को बहुत दिक्कत होने लगती है। वह ढंग से न खा सकता है न कुछ पी सकता है। उन लोगों को बहुत ज्यादा परहेज से रहना पड़ता है। लेकिन आज हम आपको बताएँगे की आप ऐसे रखे अपने  गुर्दे का ध्यान, लेकिन उससे पहले आप जाने इसके पीछा क्या कारण होते है।

 

क्या है गुर्दा ख़राब होने के कारण

 

  • गलत खान-पान

 

  • अधिक शराब का सेवन

 

  • गंदे पाने का सेवन

 

  • ज्यादा मसालेदार भोजन का सेवन

 

  • अनियमित दिनचर्या

 

  • धूम्रपान

 

  • कम पानी पीना

 

  • बाहर के खाने का ज्यादा सेवन करना

 

ये सभी इंसान के गुर्दे को ख़राब करने के मुख्य कारण होते है। यदि आप भी बाहर की चीजों का सेवन ज्यादा करते है या फ़ास्ट फ़ूड खाते है, तो ऐसा बिल्कुल मत करें इससे आपके पूरे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जो आपके पूरे शरीर को बीमारियों का घर बना देता है और आपको कई अन्य बीमारी होने के खतरे को भी बढ़ा देता है। जैसे उच्च रक्त चाप, हृदय रोग और मधुमेह ये बीमारियां होने का खतरा रहता है, अपने  शरीर का ख्याल सिर्फ आप खुद ही रख सकते है।

 

ऐसे रखे अपने गुर्दे का ख्याल

 

व्यायाम या योग करें : अपने पूरे शरीर को फिट रखने के लिए आप नियमित व्यायाम करें इससे आप मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से स्वस्थ रहेंगे और यह आपके रक्तचाप और गुर्दे के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होगा।

डायबिटीज की नियमित जांच कराएं : सबसे जरुरी बात आपको अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रण में रखना होगा, क्योंकि जिन लोगों को डायबिटीज है, उनमें से आधे किडनी की बीमारी से पीड़ित होते है।

 

तनाव बिल्कुल न लें : यदि आपको उच्च रक्तचाप की समस्या रहती है तो तनाव बिल्कुल भी न लें, इससे आपको ब्लड प्रेशर और भी बढ़ सकता है और यह आपके गुर्दे की क्षति का सबसे एहम कारण भी होता है। सामान्य रक्तचाप का स्तर 120 प्रति 80 और 129 प्रति 89 के बीच में ही रहना चाहिए।

 

पौष्टिक आहार खाए : यदि आप अपने गुर्दे का ख्याल रखना चाहते है तो एक अच्छा और स्वस्थ खाना ही खाएं और अपने वजन को बढ़ने मत दें। क्योंकि इससे आपको हृदय रोग, मधुमेह और सीकेडी से जुड़ी अन्य बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। आप अपने खाने में नमक का सेवन कम करें। सोडियम का सेवन प्रति दिन 5 से 6 ग्राम ही करें। नमक का सेवन कम करने के लिए, प्रोसेस्ड और रेस्तरां वाले भोजन की मात्रा कम करने का प्रयास करें।

 

साफ़ पानी ही पीए : यदि आप स्वस्थ पेय पदार्थ का सेवन बनाए रखेंगे, तो आप किडनी के रोग से बचे रहेंगे। आप प्रति दिन 1.5 से 2 लीटर (3 से 4 पिन्ट) पानी पीए। प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन करने से किडनी, सोडियम, यूरिया और शरीर में विषैले पदार्थ निकल जाते है।

 

धूम्रपान न करें : यदि आप अपने गुर्दे का ख्याल रखना चाहते है तो धूम्रपान बिल्कुल न करें, क्योंकि यह गुर्दे तक रक्त के प्रवाह को धीमा कर देता है। धूम्रपान से किडनी कैंसर का खतरा भी लगभग 50 प्रतिशत तक बढ़ जाता है

 

ग्रीन टी पीए : अपनी किडनी को स्वस्थ बनाए रखने के लिए नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करें, इससे आपके शरीर से जहरीले तत्व अपने आप बाहर निकल जाते है। आप दिनभर में दो से तीन कप ग्रीन टी ले सकते हैं, साथ ही ये आपका वजन घटाने में भी कारगर रहती है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।