डाइट में शामिल करें ये चीजें, इम्यूनिटी रहेगी मजबूत

क्या आप भी जानना चाहते है इम्युनिटी सिस्टम को किस प्रकार मजबूत रखा जा सकता हैं ? इम्युनिटी सिस्टम को हिंदी में प्रतिरक्षा प्रणाली भी कहा जाता हैं। इम्युनिटी सिस्टम के मजबूत रहने से आप संक्रमण और कई गंभीर बीमारियों से बच सकते हैं। इम्युनिटी सिस्टम का स्ट्रांग रहना मनुष्य के शरीर के लिए अधिक लाभदायक साबित होता हैं और इसका मजबूत रहना आपकी रोजाना डाइट पर निर्भर पर करता हैं। आज हम इस लेख में जानेंगे की आपको अपने इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत रखने के लिए अपनी रोजाना जीवनशैली और डाइट में क्या बदलाव करने चाहिए ?

 

 

 

इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होने पर किस प्रकार की परेशानियां होती हैं ? (Immunity system Kamjor hone Ke Lakshan Kya Hain in Hindi)

 

 

जब इम्यून सिस्टम कमजोर होता है, तो व्यक्ति को विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यहाँ कुछ प्रमुख परेशानियां हैं जैसे की-

 

 

  • इम्युनिटी के कमजोर होने पर व्यक्ति को बार-बार बुखार और छोटे संक्रमणों का सामना करना पड़ता है जैसे की- खांसी, जुखाम आदि।

 

  • इम्यूनिटी कमजोर होने से व्यक्ति आसानी से थक जाता है और लंगड़ापन महसूस कर सकता है।

 

  • इम्यूनिटी सिस्टम की कमजोरी एक्स्ट्रा-इम्यूनिटी समस्याओं की ओर भी ले जा सकती है, जिसमें शरीर के अपने ही कोशिकाओं के खिलाफ प्रतिक्रिया शामिल होती है। इसमें रूमैटॉइड आर्थराइटिस (Arthritis), लुपस, और अन्य ऑटोइम्यून समस्याएं शामिल हो सकती हैं।

 

  • कमजोर इम्यूनिटी सिस्टम वाले व्यक्तियों को गंभीर संक्रमणों का जोखिम बढ़ जाता है, जैसे टीबी, HIV, और अन्य गंभीर संक्रमण।

 

  • व्यक्ति के इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होने पर उन्हें कई एलर्जी (स्किन इन्फेक्शन) का सामना भी करना पड़ता हैं।

 

  • इम्यूनिटी कमजोर होने पर कोई भी चोट और घाव आसानी से ठीक नहीं होता है।

 

  • इम्यूनिटी कमजोर होने पर पाचन तंत्र खराब होने की समस्या भी हो सकती है। इम्यूनिटी कमजोर होने पर कब्ज, अपच और एसिडिटी आदि की समस्या बढ़ सकती हैं।

 

  • इम्यूनिटी सिस्टम के वीक होने पर पेट में दर्द की समस्या भी रह सकती है।

 

 

 

इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होने पर क्या खाना चाहिए ? (Immunity system kamjor hone par Kya Khana Chahiye  in Hindi)

 

 

इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत और स्वस्थ बनाए रखने के लिए सही प्रकार का आहार बहुत महत्वपूर्ण होता है। इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए निम्नलिखित आहार का सेवन किया जा सकता है:

 

 

  • फल और सब्जियां: फल और सब्जियां भरपूर विटामिन, मिनरल्स, और एंटीऑक्सिडेंट्स प्रदान करते हैं जो इम्यून सिस्टम के लिए उपयोगी होते हैं। विशेष रूप से, खाद्य पदार्थ जैसे कि अमरूद, नारंगी, संतरा, गाजर, ब्रोकोली, शलजम आदि इम्यूनिटी को मजबूत करने में मदद कर सकते हैं।

 

  • पानी: पानी इम्यूनिटी के लिए आवश्यक है क्योंकि यह शरीर के शुद्धिकरण की प्रक्रिया को सहायक होता है और एनीमिया की समस्या को बढ़ने से रोकता हैं। पानी का पर्याप्त मात्रा में सेवन करने से आप हाइड्रेट(hydrate) भी रहते हैं।

 

  • दही: दही में प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन डी, और अन्य पोषक तत्व होते हैं, जो आपके शरीर के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। दही में प्रोबायोटिक्स होते हैं, जो आपके पेट के स्वस्थ बैक्टीरिया को बढ़ावा देते हैं और इम्यून सिस्टम को मजबूत करते हैं।

 

  • हल्दी: हल्दी में “कर्कुमिन” नामक एक प्रमुख तत्व होता है। हल्दी का सेवन करने से हल्दी में मौजूद कुछ तत्व बैक्टीरिया, वायरस, और फंगल संक्रमणों के खिलाफ लड़ने में मदद कर सकते हैं। हल्दी एक प्राचीन औषधीय उपचार है जो विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज में उपयोग किया जाता है और इम्यूनिटी को भी मजबूत करने में मदद करता है।

 

  • खजूर: खजूर भी एक प्रकार का सुपरफूड है जो इम्यूनिटी को मजबूत करने में मदद कर सकता है। खजूर में कई पोषक तत्व और प्रोटीन्स होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। यह एक अच्छा विटामिन और मिनरल स्रोत होता है जैसे कि विटामिन ए, विटामिन क, विटामिन बी6, पोटैशियम, मैग्नीशियम, और कैल्शियम।

 

  • लहसुन: लहसुन में कई पोषक तत्व होते हैं जैसे कि विटामिन सी, विटामिन बी6, मैग्नीशियम, सेलेनियम, और अल्लिन, जो स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं। लहसुन का सेवन निम्नलिखित तरीकों से आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकता है।

 

  • ड्राईफ्रूट्स: ड्राईफ्रूट्स भी इम्युनिटी को मजबूत करने में मदद करते हैं ड्राई फ्रूट्स में विटामिन्स, मिनरल्स, एंटीऑक्सिडेंट्स, और अन्य पोषक तत्व होते हैं जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद कर सकते हैं।

 

  • ग्रीन टी: ग्रीन टी में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेट्स और पोषक तत्व हड्डियों की स्वस्थता को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। ग्रीन टी भी इम्यूनिटी को मजबूत करने में मदद करती हैं।

 

 

 

इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत रखने के लिए जीवनशैली में किस प्रकार करना चाहिए ? (Immunity system ko strong bnane Ke Liye Kya Kare in Hindi)

 

 

इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत रखने के लिए नियमित व्यायाम और जीवनशैली में बदलाव अत्यंत महत्वपूर्ण है। यहाँ कुछ प्रमुख व्यायाम के प्रकार हैं जो आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद कर सकते हैं-

 

 

  • योग और प्राणायाम: योग और प्राणायाम करने से शरीर की सामंजस्यिकता (एकता) बनी रहती है और तनाव को कम करता है, जिससे इम्यून सिस्टम को भी लाभ मिलता है।

 

  • नृत्य: नृत्य न केवल शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है, बल्कि मानसिक स्वास्थ्य को भी सुधारता है और इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकता है।

 

  • सांस लेने का अभ्यास: सही तरीके से साँस लेने का अभ्यास करना और ध्यान में रहना भी इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकता है।

 

  • जॉगिंग: जॉगिंग एक अच्छा कार्डियो व्यायाम है जो दिल की सेहत को सुधारने के साथ-साथ इम्यून सिस्टम को भी मजबूत करता है।

 

  • स्वछता: हमेशा हाथों को साबुन और पानी से धोएं, नाक, मुंह और आंखों को छूने से पहले और खाने से पहले हाथ धोएं।

 

  • पर्याप्त नींद: पर्याप्त नींद आवश्यक है ताकि आपके शरीर को आराम मिले और आपकी इम्युनिटी पर गलत प्रभाव न पड़े।

 

  • स्ट्रेस: स्ट्रेस लेवल बढ़ने से भी मनुष्य की इम्युनिटी पर प्रभाव पड़ता हैं। स्ट्रेस को कम करने के लिए मेडिटेशन, ध्यान, योग, और अन्य शांति प्रद तकनीकों का उपयोग करें।

 

 

 

इससे सम्बंधित कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें। आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

 

Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।