क्या है पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम? जाने बचने के उपाय

Safe20

देश में ज्यादातर महिलाएं पेट के निचले हिस्से में दर्द की शिकायत करती हैं। जो लंबे समय तक ऑफिस में या दिन भर बैठे रहने के कारण बढ़ जाता है। यदि यह दर्द की समस्या 6 महीने से अधिक समय तक बनी रहती है, तो यह पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम (Pelvic congestion syndrome) का कारण हो सकता है। भारत में हर तीन में से एक महिला अपने जीवन के किसी न किसी चरण में पेल्विक दर्द से पीड़ित है।

 

पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम क्या है

 

पेट के निचले हिस्से में दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं। लेकिन सबसे आम कारणों में से एक पैल्विक कंजेशन सिंड्रोम यानी (पीसीएस) है। यह बीमारी आमतौर पर युवा महिलाओं में होती है। पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम को पेल्विक नस की असंगति या पेल्विक नस की अपर्याप्तता के रूप में भी जाना जाता है। यह महिलाओं में एक ऐसी बीमारी है जिसमें पेट में तेज दर्द होता है, जो खड़े होने पर और बढ़ जाता है। हालांकि, लेटने पर थोड़ा आराम होता है। पीसीएस जांघ, नितंब या योनि क्षेत्र के वैरिकाज़ नसों के अंतर्गत आता है। इसमें नसों को सामान्य से अधिक खींचा जाता है।

 

पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम के कारण

 

गर्भावस्था के दौरान, श्रोणि क्षेत्र के हार्मोनल परिवर्तन, वजन बढ़ना और शारीरिक परिवर्तन से अंडाशय की नसों में दबाव बढ़ जाता है। जिसके कारण नस की दीवार कमजोर हो जाती है। फिर वे सामान्य से अधिक फैल गए। जब अंडाशय की नसें फैल जाती हैं, तो वाल्व पूरी तरह से बंद नहीं होता है, जिससे रक्त वापस नसों में प्रवाहित होता है। इसे रिफ्लेक्स कहा जाता है। इसके कारण, श्रोणि क्षेत्र में रक्त की मात्रा बढ़ जाती है। पीसीएस पेट बटन के नीचे और दोनों नितंबों के बीच होता है और छह महीने से अधिक समय तक रहता है।

 

पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम के लक्षण

 

  • लंबे समय तक बैठने या खड़े रहने में दर्द
  • पेशाब करते समय दर्द होना
  • शारीरिक कष्ट हो
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द या मरोड़
  • श्रोणि क्षेत्र में लंबे समय तक दर्द
  • श्रोणि क्षेत्र में दबाव या भारीपन महसूस होना

 

पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम में महिलाओं को तेज दर्द का अनुभव होता है। इस स्थिति में खड़े होने पर यह दर्द और अधिक हो जाता है, लेटने में कुछ राहत मिलती है। यह दर्द नितंबों, जांघों या योनि क्षेत्र की वैरिकाज़ नसों से संबंधित है। अक्सर महिलाएं इस दर्द और पीसीएस में होने वाले लक्षणों को नजरअंदाज कर देती हैं, जिससे समस्या और अधिक बढ़ जाती है।

 

पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम का उपचार

 

निर्गुंडी पेचिश

 

निर्गुंडी का उपयोग मूत्राशय की गड़बड़ी, गठिया (जोड़ों की हड्डियों और कोमल ऊतकों में दर्द), त्वचा से संबंधित स्थितियों, मल में रक्तस्राव, जोड़ों में सूजन, मलेरिया, सिरदर्द और बवासीर के उपचार में किया जाता है। यह दर्द निवारक, मूत्रवर्धक, सुगंधित, परजीवी है और इसमें नसों को आराम मिलता है। निर्गुंडी एंडोमेट्रियोसिस को नियंत्रित करने में प्रभावी है और निर्गुंडी इस स्थिति के कारण श्रोणि में दर्द से राहत दिलाने में सहायक है। आप निर्गुंडी पेस्ट को ताजे पानी या शहद के साथ या काढ़े के रूप में ले सकते हैं, फलों का पाउडर, क्लोमा, मिलावट (शराब में दवा घोलकर तैयार), पाउडर के रूप में या चिकित्सक द्वारा निर्धारित अनुसार।

 

अरंडी

 

अरंडी में नसों को आराम देने वाले, दर्द निवारक और रेचक गुण होते हैं। यह तंत्रिका, उत्सर्जन, मूत्र पथ और पाचन तंत्र पर कार्य करता है। यह लुंबागो (कमर या काठ क्षेत्र में दर्द), यकृत वृद्धि, कब्ज, गठिया, कटिस्नायुशूल, तंत्रिका विकार, बुखार और जोड़ों के दर्द को नियंत्रित करने में प्रभावी है। अरंडी का तेल गाउट से संबंधित विकारों, पाचन तंत्र में गंभीर सूजन और चिड़चिड़ेपन की स्थिति का इलाज करने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रमुख जड़ी बूटियों में से एक है। इससे कष्टार्तव से भी राहत मिलती है। आप कैस्टर को एक पेस्ट, ठंडा या गर्म अर्क, पाउडर के रूप में या चिकित्सक द्वारा निर्धारित अनुसार ले सकते हैं।

 

अतिविषा

 

अतिविषा में कामोत्तेजक, पाचन और भूख बढ़ाने वाले गुण होते हैं। यह श्वसन, प्रतिरक्षा और पाचन तंत्र पर कार्य करता है। इन जड़ी बूटियों से एडिमा, बवासीर, अपच, अत्यधिक सूजन, कमजोरी, यकृत से संबंधित स्थिति, पुराने बुखार और दस्त से राहत मिलती है। यह प्रोस्टेटाइटिस के उपचार में भी फायदेमंद है।

 

मुस्‍ता

 

मुस्‍ता का उपयोग मुख्य रूप से कैंडिडा और खमीर संक्रमण के उपचार में किया जाता है। इसमें उत्तेजक, विरोधी भड़काऊ (विरोधी गठिया), एंटी-फंगल और भूख बढ़ाने वाले गुण हैं। इस जड़ी बूटी के नियमित उपयोग से पेट की सूजन (जठरशोथ), दौरे, मल रक्तस्राव, कष्टार्तव, स्तन ट्यूमर और उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियों से भी छुटकारा पाया जा सकता है। चूंकि यह IBS के रोगसूचक अतिसार के इलाज में उपयोगी है, इसलिए यह IBS के कारण होने वाले श्रोणि में दर्द को दूर करने में भी मदद कर सकता है। आप मुस्‍ता को पाउडर या काढ़े में या डॉक्टर के निर्देश के अनुसार ले सकते हैं।

 

ट्रीटमेंट

 

गैर-शल्य प्रक्रिया द्वारा इस समस्या को दूर किया जा सकता है। यह पीसीएस का एक न्यूनतम इनवेसिव उपचार है जिसमें नसों में खराबी को बंद कर दिया जाता है ताकि वे रक्त जमा न करें। रक्तस्राव को रोकने में एम्बोलिज़ेशन बहुत प्रभावी है और ओपन सर्जरी की तुलना में बहुत आसान है। यह कुछ समय की प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया के बाद आपको थोड़ा दर्द महसूस हो सकता है लेकिन अगले कुछ दिनों के बाद यह दूर हो जाता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।