घबराहट का रामबाण इलाज। (Anxiety treatment in Hindi)

घबराहट एक आम समस्या बन गई हैं तथा यह किसी भी उम्र में किसी भी मनुष्य को हो सकती हैं। यदि घबराहट की समस्या किसी भी मनुष्य के अंदर अधिक गंभीर हो जाती हैं तो यह अनेक बीमारियों का कारण भी बन सकती हैं। यह एक ऐसी समस्या है जो हमारी जीवनशैली और दिनचर्या दोनों को प्रभावित करती है और कुछ गंभीर स्थितियों में यह मानसिक समस्या का कारण भी बन जाती है।

 

 

 

घबराहट होने के लक्षण क्या हैं ? (What is Anxiety in Hindi)

 

 

माना जाता हैं की सामान्य घबराहट और बेचैनी सभी को होती हैं परन्तु यह परेशानी अगर प्रतिदिन हो तो यह गंभीर मानी जाती हैं क्योकि यह परेशानी मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं इसलिए घबराहट ज्यादा हो तो इससे नज़र अंदाज़ नहीं करना चाहिए और डॉक्टर से जाँच करवानी चाहिए। डॉक्टर के अनुसार लक्षण कुछ इस प्रकार होते हैं जैसे की –

 

 

  • अचानक व्यक्ति को झटके लगने शुरू हो जाते हैं।

 

  • कई बार कुछ लोगो को ठण्ड या गर्मी लगने लगती हैं।

 

  • पाचन क्रिया ख़राब हो जाती हैं।

 

  • हृदय गति का सामान्य से अधिक धड़कना।

 

  • शरीर में कपकपी होना और अधिक पसीना आना।

 

  • नींद नहीं आना और बार – बार उठना।

 

 

  • अधिक गुस्सा आना और सीने में भारीपन महसूस होना।

 

  • कुछ लोगो को सांस लेने में भी तकलीफ होने लगती हैं।

 

 

 

घबराहट होने के कारण क्या होते हैं ? (Anxiety causes in Hindi)

 

 

घबराहट होने के निम्न कारण हो सकते हैं जैसे की –

 

 

  • अधिक तनाव में रहना और पुरानी ख़राब बातों को अधिक याद करना।

 

  • अधिक समय तक दवाइयों का सेवन करने वाले व्यक्ति घबराहट का शिकार होते हैं।

 

  • थायरॉइड की समस्या और हॉर्मोन के असंतुलन के कारण भी व्यक्ति को घबराहट हो सकती हैं।

 

  • अधिक मात्रा में कैफीन युक्त पदार्थ,अल्कोहल या मीठे पेय पदार्थ पीने से भी घबराहट हो सकती है।

 

  • अगर परिवार में किसी व्यक्ति को मानसिक समस्या है तो अनुवांशिक कारणों से भी घबराहट और बेचैनी की समस्या हो सकती हैं ।

 

  • मानसिक बीमारी ADHD के कारण भी लोगों को घबराहट या बेचैनी की शिकायत होती है।

 

 

 

 

घबराहट का रामबाण इलाज क्या होता हैं ? (Anxiety treatment in Hindi)

 

 

घबराहट को दूर करने के लिए कुछ घरेलु उपाय और तरीके होते हैं परन्तु किसी मनुष्य को घबराहट की समस्या अधिक हो तो वह उपाय के साथ डॉक्टर की सलाह भी अवश्य ले। घबराहट के कुछ घरेलु उपाय इस प्रकार हैं जैसे की –

 

 

प्रणायाम: योग और प्रणायाम जैसे की गहरी सांस लेना, शवासन, आलोम-विलोम आदि। यह सब करने से आपकी घबराहट की समस्या कम हो सकती हैं और शांति तथा सुकून का अहसास भी होगा।

 

व्यायाम: व्यायाम या फिर रोज एक्सरसाइज करने से शरीर में एंडोर्फिन्स (endorphins) रिलीज़ होते हैं जो आपकी स्थिति को अच्छा रखता हैं इसलिए मनुष्य को रोजाना चलना चाहिए, जॉगिंग, तैराकी, साइकिल भी चलानी चाहिए यह सब प्रतिक्रियाएं घबराहट को दूर करने में मदद करते है ।

 

स्ट्रेस को कम करे: घबराहट का सबसे मुख्य कारण स्ट्रेस होता हैं इसलिए मनुष्य को स्ट्रेस कम करने के लिए अपनी (hobbies) को अपनाना चाहिए जैसे की चित्रकारी करना, किताबें पढ़ना, नृत्य करना, तथा जिस विषय में भी रूचि हो वो करे जिसकी वजह से आपके मन को शांति मिलेगी तथा किसी भी तरीके चिंता से आप दूर रहेंगे।

 

नियमित रूप से नींद ले: अच्छी नींद लेना आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। मनुष्य को अपनी दिनचर्या में समय निकालकर प्रत्येक रात 7 से 8 घंटे की नींद लें।

 

तनाव को दूर करे: जब घबराहट महसूस करते हैं तो व्यक्ति को अपनी भावनाओं को समझना चाहिए और किसी दोस्त या परिवार के व्यक्ति से बाँट लेनी चाहिए या फिर किसी डायरी में लिख कर मन को शांत करे। यदि कोई बात मन में रहती हैं तो व्यक्ति अधिक तनाव में आ जाता है।

 

 

वजन को नियंत्रण में रखे: अधिक वजन होने से व्यक्ति को घबराहट और बेचैनी होने लगती हैं इसलिए व्यक्ति को मोटापा नियंत्रण में रखने की कोशिश करनी चाहिए। मनुष्य को वजन में कमी लाने के लिए डाइट में बदलाव लाना चाहिए और वजन को कम करने से सम्बंधित एक्सरसाइज करनी चाहिए। इससे वजन मोटापा कम होगा और घबराहट भी दूर हो जाएगी।

 

 

सेहत पर ध्यान दे: जितना आप खुद को स्वस्थ रखेंगे उतना ही आप घबराहट और बेचैनी से दूर रहेंगे, उतना ही नहीं आपका शरीर भी आपका साथ देगा। हम यह नहीं कहते की सुबह पांच बजे उठो और टहलने जाए। निष्पक्ष होने के लिए, यह शायद आज की दिनचर्या से मेल नहीं खाता, क्योंकि सात से आठ घंटे की नींद पूरी करना बहुत जरूरी है क्योंकि जब नींद पूरी नहीं होती है तब चिंता अधिक सताती है। लेकिन जब भी आपको समय मिले, अपनी दिनचर्या के अनुसार अपने पसंदीदा व्यायाम का चयन करें और इसे नियमित रूप से करने की कोशिश करें।

 

 

 

घबराहट की समस्या में मनुष्य को क्या खाना चाहिए ? (What should a person eat when he is suffering from anxiety in Hindi)


 

 

घबराहट के समय कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं जो कि इस समस्या को दूर करने में अधिक सहायक होती हैं। घबराहट की समस्या में मरीज को कुछ इस प्रकार के खाद्य पदार्थो का सेवन करना चाहिए जैसे की-

 

 

पालक: पालक का सेवन करने से घबराहट को दूर करने में सहायता मिलती है। आप पालक को पीसकर उसका जूस निकालकर सेवन कर सकते हैं। पालक को सब्ज़ी के तौर पर भी खा सकते हैं। पालक में एंटी स्ट्रेस और एंटी डिप्रेसिव गुण होता हैं जो चिंता और घबराहट को दूर करने में मदद करता है।

 

 

गाजर: गाजर का सेवन भी चिंता को दूर करने के लिए किया जा सकता है। आप गाजर को सलाद के रूप में खा सकते हैं या उसका जूस निकाल कर भी सेवन कर सकते हैं। गाजर में विटामिन ए, सी और के पाया जाता है साथ ही पोटेशियम भी काफी मात्रा में होता है जो चिंता और घबराहट से निजात दिलाने में सहायता करता है।

 

 

सिर की मालिश: बादाम, लैवेंडर और मिशेलिया, अल्बा लीफ आदि के तेलों को मिलाकर सिर की मालिश करने से भी बेचैनी की परेशानी दूर होती है। तेलों के इस मिश्रण में चिंता निवारक गुण होते हैं जो घबराहट व बेचैनी को दूर करने में सहायता करते हैं।

 

 

जायफल: घबराहट को दूर करने के लिए जायफल भी काफी सहायता करता है। इसको पाउडर के रूप में नाश्ते व खाना बनाने के दौरान इस्तेमाल करें। जायफल का तेल मूड ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए जायफल के तेल की कुछ बूंदों को रूमाल पर डालकर इसको सूंघते रहें। इससे काफी आराम मिलेगा।

 

 

हल्दी: हल्दी शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होती है। इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण डिप्रेशन को दूर करने के साथ घबराहट और बैचेनी को भी आसानी से दूर करेंगे। हल्दी शरीर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने में मदद करती है।

 

 

डार्क चॉकलेट: डार्क चॉकलेट खाने में स्वादिष्ट होने के साथ घबराहट और बैचेनी को भी आसानी से दूर करती है। डार्क चॉकलेट खाने से चिड़चिड़ापन, तनाव और बैचेनी भी आसानी से दूर होती  है। डार्क चॉकलेट में ऐसे गुण पाए जाते है, जो त्वचा को ग्लोइंग बनाने के साथ घबराहट को आसानी से दूर करते हैं। घबराहट होने पर इसका सेवन कम मात्रा में करे |

 

 

नींबू: नींबू शरीर को कई समस्याओं को आसानी से दूर करता है। नींबू में पाए जाने वाले तत्व पेट को स्वस्थ रखने के साथ मूड को सही रखने में मदद करते हैं। इसका नींबू पानी बनाकर या सब्जी आदि में डालकर खाया जा सकता है। नींबू का रस शरीर को हेल्दी रखने में मदद करता है।

 

 

ग्रीन टी: ग्रीन टी असंतुलित हार्मोन को ठीक करके शरीर को स्वस्थ रखती है। ग्रीन टी में ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो घबराहट बैचेनी को दूर करके चिड़चिड़ापन को भी आसानी से दूर करता है। घबराहट या बैचेनी होने पर ग्रीन टी का सेवन किया जा सकता है।

 

इससे सम्बंधित कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें। आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।